हौसला बढ़ाने वाली प्रेरक कविता:- मजबूत हौसला और चट्टान सी मुसीबतें

मुसीबतें किसके जीवन में नही आती? मुसीबतें हमारे जीवन का एक अभिन्न भाग है। कुछ लोग मुसीबतों का सामना नही कर पाते। कुछ लोग सामना करते है, और थक कर बीच में ही हार मान लेते है। जबकि कुछ लोग कभी हार नही मानते और मुसीबतों से तब तक लड़ते रहते है, जबतक वो जीत ना जाये। बस उन्ही लोगो से प्रेरित हौसला बढ़ाने वाली प्रेरक कविता हम लाये है।

ये उत्साह वर्धक और प्रेरणादायक कविताएँ आपका हौसला भी बढ़ाएगी, और कर्म करने की प्रेरणा भी देंगी।

हौसला बढ़ाने वाली प्रेरक कविता


१.  प्रेरक कविता: मजबूत हौसला

हौसला बढ़ाने वाली प्रेरक कविता

कमज़ोर दिल हैं वो,
जो सहारों की तलाश करते हैं,
बैसाखियाँ बना बहानों की
मदद की फरियाद करते हैं।

टूट कर बिखर जाते हैं
अकसर ठोकरों से,
जो बता खुद को मजलूम
बर्बाद किया करते हैं।
गर जीना है शान से
तो सीना तान ले,
कर मज़बूत हौंसला
काबिलियत अपनी पहचान ले।

ऊंचाइयों पर जाने वालों का
ये दुनिया इस्तकबाल करती है,
पहुँच जाए जो बुलंदियो पर
ए “गुमनाम”
ये झुक-झुक कर
सलाम करती है।

ये भी पढ़िए- अगर-मगर | भूत की गलतियाँ सुधार भविष्य बनाने की एक प्रेरणा



२.  कर्म की प्रेरणा देती कविता: चट्टान सी मुसीबतें

कर्म की प्रेरणा देती कविता: चट्टान सी मुसीबतें

चट्टान सी खड़ी रही मुसीबतें,
मैं सागर की लहरें बन टकराता रहा।
कठोर छाती ढकेल देती वापस मुझे,
बटोर हिम्मत मैं बार-बार वापिस आता रहा।

धूल धुल गई जब सच के आइने से,
मेरी कोशिशों का असर रंग दिखाता रहा।
टूट रहा था वो पत्थर भी धीरे-धीरे,
साध निशाना मैं वार हर बार बरसाता रहा।

बिखर रहा था वो इस चोट से ज़र्रा-ज़र्रा,
देख साहिल मैं उस पार रास्ता बनाता रहा।
कट गया पत्थर मेरी रुकावटों का,
धुन उमंग के गीतों की मैं गाता रहा।
चट्टान सी खड़ी रही मुसीबतें
मैं सागर की लहरें बन टकराता रहा।

पढ़िए: मंजिल की और बढ़ने की प्रेरणा देती छोटी कविताएँ



ये हौसला बढ़ाने वाली प्रेरक कविता आपको कैसी लगी, हमें जरुर बताये।

धन्यवाद।

आगे क्या है खास:

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

23 Responses

  1. vikas कहते हैं:

    When I read this …… it’s like this poem attach me to my world really it’s good and it help those people’s who lost their staved. ..

  2. Naman कहते हैं:

    Mujhey aapki kavitayein bahut hi pasand hain.

  3. योगेन्द्र सक्सेना कहते हैं:

    संदीप जी, नमस्कार
    आपकी कविताएँ बहुत सुन्दर लगी मन प्रसन्न हो गया। इतनी सुन्दर रचनाओं के लिए धन्यवाद
    योगेन्द्र सक्सेना (नोएडा)

  4. Ishank कहते हैं:

    very inspirational. thanks to author

  5. Ashis raj कहते हैं:

    This poem change my life thanks for this

  6. Tazeem adeeb कहते हैं:

    Yaro dil ko tar tar kardi ye aap ki kavita ne

  7. Rakesh कहते हैं:

    Really sir its very helpfull. THANKS……….

  8. MANISH Kumar savita कहते हैं:

    Sir ap bhut achhi poem likhte h Sir mujhe parle biscuits ke upar poem cahiye Hindi me

  9. mehararam jani कहते हैं:

    Sundeep sir ji
    You are a better ideal and motivational teacher and best guidiance poeter. As my thinking that "you will be able to get and touch high top quality level in your life " I bless to God for you .
    I like this best page and click on the right place for you.
    So, next time I hope that you have write many poem and send in this blog.
    Thanks sir ji my name is mehararam jani village kalewa district Barmer state rajasthan.

  10. राजेश कुमार बंसल कहते हैं:

    आपकी रचनाएँ बहुत ही दमदार और असरदार हैं, जिन्हें मैं अक्सर अपने चर्चा सत्र में अपने दर्शकों को सुनाया करता हूँ| लेकिन कमाल की बात यह है कि मंत्रमुग्ध होने के बावजूद कोई आपसे मिलने की तमन्ना नहीं करता| जबकि मैं बहाना ढूंढता हूँ कि किस कदर आपसे रूबरू होने का मौका मिले| और अपनी महफ़िल में हम आपको आमंत्रित करें| लेकिन मेरा प्रयास है जैसे ही यह संभव होगा तब आपको अवश्य आमंत्रित करेंगे|

    • Sandeep Kumar Singh Sandeep Kumar Singh कहते हैं:

      राजेश कुमार बंसल जी,
      किसी को खुशियां मिलती हैं अगर मेरे लफ्जों से,
      तो कोई गम नहीं अगर मैं गुमनाम भी रहा।
      सराहना के लिए धन्यवाद। ईश्वर ने चाहा तो आपसे मुलाकात जरूर होगी।

  11. Rishikesh tripathi कहते हैं:

    हमारा प्रयास छात्र विकास पर कुछ कविता भेजे मेरा व्हाटसप नम्बर 7309677229

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।