Category: रिश्तों पर कविताएँ

माँ, पिता, भाई, बहन, बेटी, आदि अलग अलह रिश्तों को समर्पित हिंदी कविताएँ। रिश्तों पर कविताएँ

बेटी के जन्म पर कविता

बेटी के जन्म पर कविता :- बेटी के लिए कविता | बेटी दिवस पर कविता

घर में बेटी के जन्म पर होने वाली ख़ुशी और उस से जुडी उम्मीदों को बताती हुयी हरीश चमोली जी की बेटी के जन्म पर कविता :- बेटी के जन्म...

शिक्षक पर कविता

शिक्षक पर कविता :- वह और कोई नहीं बस गुरु ही है | Shikshak Par Hindi Kavita

शिक्षक का जीवन में बहुत महत्त्व होता है। हम जीवन में जो भी बनते हैं उसका श्रेय शिक्षक को ही जाता है। शिक्षक ही है जो हमें जीवन का पाठ...

पिता जी को समर्पित कविता

पिता जी को समर्पित कविता :- आज फिर तुमको आवाज़ लगाता हूँ

एक पिता की कीमत हमें अक्सर उनके जाने के बाद ही पता लगती है। मगर तब कुछ बचता है तो बस यादें। उन यादों के सहारे ही हम उनको अपने...

शिक्षक दिवस पर कविता

शिक्षक दिवस पर कविता :- शिक्षक का महत्व व भूमिका बताती कविता

शिक्षक एक देश का निर्माता होता है। उसके कन्धों पर एक अच्छे समाज के सृजन का भार होता है। शिक्षक जिसे हम गुरु भी कहते हैं, भगवान् के सामान पूजनीय...

दिल कहता है

दोस्त की याद में कविता :- ए दोस्त तू जबसे जुदा हुआ | फ्रेंडशिप डे कविता भाग – 2

एक दोस्त की कमी का अहसास उसके हमसे दूर जाने के बाद ही होता है। यूँ तो हर रिश्ते में एक अलग ही बात होती है। लेकिन दोस्ती ही वो...

दोस्ती पर कविता

दोस्ती पर कविता :- फ्रेंडशिप डे पर दोस्त को समर्पित बेहतरीन कविता

एक दोस्त की जिंदगी में बहुत अहमियत होती है। दोस्त ही तो वो शख्स होता है जिसके साथ हम अपने दिल की वो बातें कर सकते हैं जो हम किसी...