दिल कहता है

उत्साहवर्धक कविता दिल कहता है :- आगे बढ़ने का उत्साह पैदा करती कविता

जिंदगी में परेशानियाँ तो आती रहती हैं लेकिन असली इन्सान वो है जो अपने जीवन में नकारात्मकता को पीछे छोड़ आगे बढ़ जाए। आप जहाँ रुक गए आपकी जिंदगी भी...

भविष्य की कल्पना पर कविता

भविष्य की कल्पना पर कविता :- आने वाले कल के सच को बयान करती कविता

कल्पना कीजिये उस समय की जब धरती पर बढ़ती आबादी और कम होते कुदरती संसाधनों के कारण हाहाकार मच जायेगा। कैसा होगा चारों और दृश्य ऐसी ही कल्पना को शब्दों...

श्मशान नज़र आता है

श्मशान नज़र आता है :- आज के हालातों को बयान करती कविता

आज के हालातों को बयां करती हुयी सलिल सरोज जी की कविता श्मशान नज़र आता है :- श्मशान नज़र आता है जो देखूँ दूर तलक तो कहीं बियाबाँ , कहीं...

मानवता पर कविता

मानवता पर कविता :- दिवाली पर इंसानियत की एक कविता

हर दिवाली हम लोग दीप जलाते हैं। इस तरह अमावस की काली रात को रोशन किया जाता है। लेकिन कितना अच्छा हो जब हम एक रात नहीं बल्कि किसी की...

गणेश जी की कहानी

भगवान श्री गणेश जी का भजन :- फूल चढ़ाऊँ नित चरणों में तेरे

देवों में सबसे पहले पूजनीय भगवान् शंकर और माता पार्वती के लाडले पुत्र भगवान श्री गणेश, जिनका नाम हर काम के शुरुआत में लिया जाता है। उनकी कृपा सदा ही...

वो बचपन मैं कहाँ से लाऊँ? | कविता बचपन की यादें भाग – 5

कभी मन में विचार आया है फिर से बचपन में लौट जाने का? अत तो जरूर होगा। लेकिन उस बालपन में जाकर आप करेंगे क्या? शायद वही जो इस कविता...