होली पर शायरी :- होली के त्यौहार पर हिंदी शायरी, संदेश और स्टेटस

भारत त्योहारों की धरती है। वैसे तो यहाँ कई त्यौहार मनाये जाते हैं लेकिन होली और दिवाली का कुछ ख़ास ही महत्व है। जहाँ दिवाली दीपों का त्यौहार है है वहीं होली रंगों का। दोनों में कुछ समान है तो ये की दोनों बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक हैं। प्रहलाद को लेकर जब होलिका आग में बैठी थीं तो वरदान होने के बाद भी खुद को न बचा सकी। कहा जाता है इस दिन तो दुश्मन भी सब बुरे भाव मिटा कर मित्रा बन जाते हैं। जिन्दगी के कई रंगों से सराबोर है ये होली का त्यौहार। तो आइये आज पढ़ते हैं इसी रंगों के त्यौहार होली पर शायरी ।

होली पर शायरी

होली पर शायरी

1.
बस रंग नहीं होते होली में
होती हैं बहुत सी बातें,
कुछ यादें बचपन और यौवन की
कुछ रंग बिरंगी रातें।

2.

होली के इस शुभ अवसर पर
खुद से ये वादा तुम कर लो ,
कर के उदासी दूर किसी की
खुशियों के तुम रंग भर दो।

3.

होली त्यौहार है खुशियों का
बांटो सब में तुम प्यार,
रंग दो अपने रंग में सबको
करलो अपना ये संसार।

4.

होली आयी उड़े गुलाल, रंग हरा, पीला और लाल,
मस्ती है सबके सिर पे छाई, रंग देंगे हम सबके गाल।

5.

जात-पात न देखते हैं, होली के ये रंग
मिल कर सब खेलते हैं, इक दूजे के संग
मस्ती सबके सिर पर छा जाती
फिर मिलकर सब मचाते हुडदंग।

6.

खेल रहे सब मिल कर होली
है रंगों की बौछार
प्यार मोहब्बत मानत रहे सब
मना के ये त्यौहार।

7.

बिना भेद के रंग लगाना, होली की है रीत
बैर मिटा कर सारे तुम दिल में बस रखना प्रीत।

पढ़िए :- होली के त्यौहार पर कुछ अप्रतिम विचार।

8.

भूल के सारे शिकवे गिले, तुम सबको को रंग लगाओ,
प्यार मोहब्बत से मिलजुल कर, होली इस बार मनाओ।

9.

पकवान बने हैं मीठे-मीठे, चारों ओर ही उड़े गुलाल,
दुश्मन भी दोस्त बनते हैं देखो, होली में होता बड़ा कमाल।

10.

रंगों का जो भेद भुला दे, सबमें भर देता है प्यार,
दुश्मन भी लग जाते हैं, ऐसा है होली का त्यौहार।

11.

जली होलिका बच गए प्रहलाद
होली की फिर हुयी शुरुआत,
सच्चाई की जीत हुयी
जीते हैं भक्ति के जज़्बात।

12.

न जीत का है, न हार का है,
होली का त्यौहार तो बस प्यार का है।

13.

होली का तुम लेकर बहाना, सबको खूब रंग लगाना,
भूल के सारे शिकवे गिले, सबको अपने गले लगाना।

14.

होली रंगों का त्यौहार है
जिसमें होती रंगों की बौछार है,
कोई साधारण सी ये रीत नहीं
इसमें बसा राधा कृष्णा का प्यार है।

15.

कुछ और नहीं है बस रंगों की बहार है होली
प्यार मोहब्बत भाई-चारे का सबसे बड़ा त्यौहार है होली,
बना दे दोस्त ये दुश्मन को बोले फिर वो भी प्यार की बोली
दिलों में अपनापन जगाता नए रिश्तों का इजहार है होली
कुछ और नहीं है बस रंगों की बहार है होली।

16.

खुशियों की बारिश हो हर पल
हो धन की वर्षा अपार
घर में सुख-समृद्धि आये
ऐसा हो होली का त्यौहार।

17.

गोकुल का वो छोरा है, वो बरसाने की छोरी,
प्रेम रंग में रंगे हैं दोनों खेल रहे हैं होली।

पढ़िए :- होली पर छोटी कविताएँ।

होली पर शायरी संग्रह के बारे में अपनी राय जरूर दें। यदि आपने भी लिखी है होली पर कोई बेहतरीन रचना और चाहते हैं दुनिया तक पहुँचाना तो हमे ईमेल करें [email protected] पर।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

3 Responses

  1. सबसे पहले आपको और के सभी पाठको को होली की ढेर सारी बधाईयाँ
    यह होली का पर्व आपके जीवन को खुशियों के रंग से रंग दे

    रंगों में रंगी मस्ती हुडदंग और भाईचारे से जुड़े होली के पर्व पर बहुत ही प्यारा आर्टिकल लिखा हैं, आपने
    लाज़वाब होली की शायरियों पर…
    आप के इस कलेक्शन में होली के सभी रंग नज़र आते हैं

  2. Ishal ahmad कहते हैं:

    Hello sr aap ka article padh kar bahut aacha laga thank you

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।