शायरी की डायरी

हिंदी शायरी Collections by Sandeep Kumar Singh- 2


एक बार फिर से  पेश है संदीप कुमार सिंह की हिंदी शायरी संग्रह भाग – 2, पढ़े ये बेहतरीन शायरियों का संग्रह।

हिंदी शायरी

हिंदी शायरी Collections by Sandeep Kumar Singh- 2

खुशियां | Khushiyan

ज़िद कर बैठी हैं खुशियां
दूर रहती हैं आज कल,
गमों ने डाला है डेरा
हर पल है नई मुश्किल।


रात | Raat

रात के भी अपने मायने हैं सबके
कोई सपने देखना पसदं करता है
तो कोई सपने पूरे करना।


हद | Hadd

हद में रहने की हिदायत दे गया वो शख़्स
जिसके लिए हम हर हदों को तोड़ते रहे।


तलाश | Talash

अज़ीब जिंदगी के दस्तूर हो गए हैं
अपनी ही तलाश में हम
खुद से ही दुर हो गए हैं।


मौत | Maut

ज़ज्बातों की मौत ही असली मौत होती है
फिर सासों का चलना ज़िंदगी नहीं होती।


तकदीर | Takdeer

दूर हो गई हैं  खुशियां,
कहीं दूर वीराने में मेरी अभिलाषाएं रो रही हैं,
सपनों में आशाएं इंतजार कर रही हैं,
हकीकत की दुनिया में आने की,
और तकदीर है की सो रही है।


इन्तजार I Intejaar

उसके किस वादे पर
ऐतबार करूँ मैं
क्यूँ उसकी मिन्नतें
बार बार करूँ मैं।
न मिलने का करार है उसका
फिर क्यूँ तन्हाई में
उसका इन्तजार करू मैं।


पढ़िए :- हिंदी गीत “जिसका था मुझको इंतजार वो  आया है”


” हिंदी शायरी संग्रह ” के बारे में अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें।

पढ़िए कुछ और बेहतरीन शायरी संग्रह :-

हमारा यूट्यूब चैनल सब्सक्राइब करें :-

apratimkavya logo

धन्यवाद।

4 Comments

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *