हिंदी शायरी Collections by Sandeep Kumar Singh- 2

एक बार फिर पेश है संदीप कुमार सिंह की हिंदी शायरी संग्रह भाग – 2, पढ़े ये बेहतरीन शायरियों का संग्रह।

हिंदी शायरी

हिंदी शायरी

खुशियां | Khushiyan

ज़िद कर बैठी हैं खुशियां
दूर रहती हैं आज कल,
गमों ने डाला है डेरा
हर पल है नई मुश्किल।


रात | Raat

रात के भी अपने मायने हैं सबके
कोई सपने देखना पसदं करता है
तो कोई सपने पूरे करना।


हद | Hadd

हद में रहने की हिदायत दे गया वो शख़्स
जिसके लिए हम हर हदों को तोड़ते रहे।


तलाश | Talash

अज़ीब जिंदगी के दस्तूर हो गए हैं
अपनी ही तलाश में हम
खुद से ही दुर हो गए हैं।


मौत | Maut

ज़ज्बातों की मौत ही असली मौत होती है
फिर सासों का चलना ज़िंदगी नहीं होती।


तकदीर | Takdeer

दूर हो गई हैं  खुशियां,
कहीं दूर वीराने में मेरी अभिलाषाएं रो रही हैं,
सपनों में आशाएं इंतजार कर रही हैं,
हकीकत की दुनिया में आने की,
और तकदीर है की सो रही है।


इन्तजार I Intejaar

उसके किस वादे पर
ऐतबार करूँ मैं
क्यूँ उसकी मिन्नतें
बार बार करूँ मैं।
न मिलने का करार है उसका
फिर क्यूँ तन्हाई में
उसका इन्तजार करू मैं।


अगर ये शायरियां आपको अच्छी लगी तो कृपया इसे शेयर करे, हमारा फेसबुक पेज लाइक करे और नये शायरी पाए।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

2 Responses

  1. ashok ysdav कहते हैं:

    Ae dost tum hamko bhul jaw par
    Ham tomko n bhula paynge
    Teri mohabbt ki kasham ye sanam
    Tum aawaj dogi shapno me ham
    Hakikat me chale syenge

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *