राधा कृष्ण होली गीत :- कृष्ण न आये बरसाने राधा जी राह निहारें

जब होली आती है तो मन में रंगों के प्रति प्यार कुछ बढ़ सा जाता है। होली बुराई पर अच्छाई की जीत के साथ-साथ राधा कृष्णा के प्रेम का भी प्रतीक है। एक ऐसा प्रेम जो पवित्रता की सबसे बड़ी उदाहरण है। उन्हीं राधा कृष्णा के जीवन से हमने एक दृश्य प्रस्तुत करने की चेष्टा की है। जिसमे होली के दिन राधा जी बरसाने में कृष्णा के आने की प्रतीक्षा कर रही हैं। तो आइये पढ़ते हैं राधा कृष्ण होली गीत में उस दृश्य को:-

राधा कृष्ण होली गीतराधा कृष्ण होली गीत

रंगों की बरात लेकर देखो होली आयी है
राधा जी से मिलने को आने वाले कृष्णा कन्हाई हैं,
चारों ओर रंग बरस रहा हुए रंग बिरंगे सारे
कृष्ण न आये बरसाने राधा जी राह निहारें।

श्याम मनोहर मुरली बजाते बैठे हैं तैयारी में
गोपियों को रंगने की खातिर रंग भर के पिचकारी में,
कान्हा के दर्शन को देखो लग गयी हैं लम्बी कतारें
कृष्ण न आये बरसाने राधा जी राह निहारें।

याद हैं करती बीते समय को जो कान्हा संग बिताये थे
कितनी बार ही छिप-छिप कर वो इनसे मिलने आये थे,
प्रेम के सागर में जो डूबे पार उसको कौन उतारे
कृष्ण न आये बरसाने राधा जी राह निहारें।

सखियों संग बैठी राधा जी रख के अबीर गुलाल
खूब मैं रंग लगाउंगी जब आयेंगे नन्दलाल,
बस जल्दी से आ जाये कि अब पल नहीं जाते गुजारे
कृष्ण न आये बरसाने राधा जी राह निहारें।

सारा जग जिनका दीवाना वो राधा के दीवाने हैं
जप लो राधे कृष्णा गर जो अपने भाग्य जगाने हैं,
जो रंग जाता प्रभु के रंग में क्या कोई उसका बिगाड़े
कृष्ण न आये बरसाने राधा जी राह निहारें।

पढ़िए :- होली के त्यौहार पर शायरी, संदेश और स्टेटस।

यदि आपको लगता है की इस गीत ‘ राधा कृष्ण होली गीत ‘ में कोई त्रुटी है तो बताने की कृपा जरूर करें। साथ ही यह गीत आपको कैसा लगा इस बारे में भी आप अपने विचार भी कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखें। और अगर आप भी रखते हैं ऐसा ही कुछ लिखने का हुनर तो अपनी रचनाएं हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचाने के लिए हमने लिख भेजें blogapratim@gmail.com पर।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

4 Responses

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।