माँ पर दो लाइन शायरी :- माँ के लिए स्टेटस और शायरी | Maa Shayari 2 Lines

माँ को समर्पित माँ पर दो लाइन शायरी में पढ़िए माँ के प्रति हमारे ज़ज्बातों को चन्द शब्दों में। इसके साथ ही आपको याद आएंगे वो पल जो अपने माँ के साथ बिताएं होंगे। माँ तो इस धरती पर स्वयं इश्वर का अवतार है जो अपनी संतान की हर ख्वाहिश पूरी करती है अ उर उन्हें जीवन में एक अच्छा इन्सान बनाती है। आइये पढ़ते हैं माँ पर दो लाइन शायरी :-

माँ पर दो लाइन शायरी

माँ पर दो लाइन शायरी

1.

बिगड़े हुए हालातों की तस्वीर बदल देती है,
माँ की दुवाएं बेटों की तकदीर बदल देती है।

2.

साथ छोड़ देती है दुनिया पर वो साथ चलती है,
कैसे भी हो हालात माँ कभी नहीं बदलती है।

3.

लाख छिपाता है कोई जब परेशानियाँ जकड़ लेती हैं,
माँ-माँ होती है औलादों की खामोशियाँ को पढ़ लेती है।

4.

जिसने दी है जिंदगी और चलना सिखाया है,
वो माँ मेरी उस भगवान का साया है।

5.

आज भी नींद न आये तो वो लोरियां सुनाती है,
बस फर्क इतना है कि वो अब यादों में ही आती है।

6.

जो उसको ठुकरा दे उसका विनाश होता है,
माँ होती है घर में तो भगवान का वास होता है।

7.

वो जीवन में न कभी बर्बाद होता है,
जिसके सिर पर माँ का आशीर्वाद होता है।

8.

गिले शिकवे सभी दिल से साफ़ कर देती है,
मेरी खता पर पल भर में ही माँ मुझे माफ़ कर देती है।

9.

उनके लिए हर मौसम बहार होता है,
जिनके हिस्से में माँ का प्यार होता है।

10.

उसके अल्फाजों से एक अलग सा जूनून मिलता है,
सारे जहान में बस माँ की गोद में सुकून मिलता है।

11.

मेरे लिए वो दुनिया की सबसे ख़ास हस्ती है,
उसके क़दमों में तो मेरी सारी कायनात बस्ती है।

12.

मेरे साथ अगर तेरी ममता की कहानी न होती,
मैं तो होता मगर खुशनुमा ये जवानी न होती।

13.

तेरे दिए संस्कारों ने ही मुझको आज बनाया है,
सिर पर मेरे तेरी ही दुवाओं का साया है।

14.

एक नहीं सौ जनम उस पर कुर्बान हैं,
वो सिर्फ मेरी माँ ही नहीं, मेरी भगवान् है।

15.

वो ही मेरी दौलत है और वो ही मेरी शान है,
उसके क़दमों में ही तो मेरा सारा जहान है।

16.

सारे जहाँ में जो उसको सबसे ज्यादा प्यारे हैं,
उसकी कोख से जन्में उसकी आँखों के तारे हैं।

17.

बे’गैरत है वो औलाद जो माँ को रुला देती है,
माँ तो बच्चों की हर कहता को हंसकर भुला देती है।

18.

इस दुनिया में मुझे उससे बहुत प्यार मिला है,
माँ के रूप में मुझे भगवान् का अवतार मिला है।

19.

सोया रहता हूँ मैं जब मैं माँ के पैरों में,
खोया रहता उस पल मैं जन्नत की सैरों में।

20.

कैसे भी हों हालात वो खुद को ढाल लेती है,
भूखे नहीं सोने देती माँ बच्चे पाल लेती है।

इस शायरी संग्रह का विडियो देखिए :-

पढ़िए माँ को समर्पित अन्य रचनाएँ :-

माँ पर दो लाइन शायरी के बारे में अपने विचार हमें कमेंट बॉक्स में लिख कर अवश्य बताएं।

धन्यवाद।

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

12 Comments

  1. Avatar Mrityunjay sahu
  2. Avatar धनंजय
  3. Avatar अभय प्रताप सिहं

Add Comment