देश प्रेम पर छोटी कविताएँ :- मेरा देश है सबसे महान और मैं हूँ एक भारतवासी

देश की एकता और अखंडता का बखान करती हुयी देश भक्ति की भावना से भरी हुयी देश प्रेम पर छोटी कविताएँ ।

पहली कविता: मेरा देश है सबसे महान।
दूसरी कविता: मैं हूँ एक भारतवासी।

देश प्रेम पर छोटी कविताएँ

देश प्रेम पर छोटी कविताएँ

१. मेरा देश है सबसे महान

यूँ तो देश कई धरती पर
पर मेरा देश है सबसे महान
कहें इसे सप्तसिंधु, इंडिया
भारत और हिन्दुस्तान
यूँ तो देश कई धरती पर
पर मेरा देश है सबसे महान।

एकता का ये पाठ सिखाये
कुदरत का हर रंग दिखाए
ईद हो या फिर हो दिवाली
मिल कर हम सब त्यौहार मनाये,
इंसानियत से है नाता सबका
इक दूजे में बसते प्राण
यूँ तो देश कई धरती पर
पर मेरा देश है सबसे महान।



पवन, पवित्र और सुन्दर है
धरती ये गुरुओं पीरों की
घर-घर में सुनाई जाती गाथा
योद्धाओं और वीरों की
इसलिए मेरी मातृभूमि पर
मुझे हर क्षण ही है अभिमान
यूँ तो देश कई धरती पर
पर मेरा देश है सबसे महान।

यूँ तो देश कई धरती पर
पर मेरा देश है सबसे महान
कहें इसे सप्तसिंधु, इंडिया
भारत और हिन्दुस्तान
यूँ तो देश कई धरती पर
पर मेरा देश है सबसे महान।

पढ़िए कविता :- ये हमारा हिंदुस्तान है।



२. मैं हूँ एक भारतवासी

न धर्म न कोई मजहब मेरा
बस मैं हूँ एक भारतवासी
अजमेर भी प्यारा है मुझको
और मुझे प्यारा है काशी
न धर्म न कोई मजहब मेरा
बस मैं हूँ एक भारतवासी।

ईद की सेवई हो या दीवाली की हो मिठाई
इस पेट ने न कभी कोई ऊँगली उठायी
दिल से रखना दिल का रिश्ता
इस देश ने ही ये रीत सिखाई
सदा हैं रहते हम मुस्कुराते
चेहरे पर कभी न आती उदासी
न धर्म न कोई मजहब मेरा
बस मैं हूँ एक भारतवासी।



इस धरा पे मुझको कोई भी मिले
मैं प्रणाम करूँ मैं सलाम करूँ
न वैर रखूं मैं किसी से कभी
चुपचाप मैं अपना काम करूँ,
अपने ही हैं सब कोई गैर नहीं
हैं जितने भी यहाँ के निवासी
न धर्म न कोई मजहब मेरा
बस मैं हूँ एक भारतवासी।

न धर्म न कोई मजहब मेरा
बस मैं हूँ एक भारतवासी
अजमेर भी प्यारा है मुझको
और मुझे प्यारा है काशी
न धर्म न कोई मजहब मेरा
बस मैं हूँ एक भारतवासी।

पढ़िए कविता :- मत बांटों इन्सान को।

अगर आपको देश प्रेम पर छोटी कविताएँ पसंद आयीं तो ब्लॉग के लिंक के साथ शेयर जरूर करें। अपनी राय कमेंट बॉक्स में देना न भूलें।

धन्यवाद।

देश प्रेम से सम्बंधित रचनाएँ:

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

5 Responses

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।