सर्दी पर हास्य कविताएँ :- ठंड पर हिन्दी हास्य व्यंग्य कविताएँ

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है।
रचना पसंद आये तो हमारे प्रोत्साहन के लिए कमेंट जरुर करें। हमारा प्रयास रहेगा कि हम ऐसी रचनाएँ आपके लिए आगे भी लाते रहें।

सर्दी का मौसम जब भी आता है कई लोगों को ये मुसीबत सा लगने लगता है। वहीं कई लोगों को ये बहुत ही आनंद देने वाली ऋतु प्रतीत होती है। ये तो सबका अपना-अपना नजरिया है। हमारा काम तो आपके नजरिये को ही दर्शाना है। लेकिन यहाँ तो दो नजरिये हैं। कोई बात नहीं तो हम लाये हैं दोनों नजरियों को दिखाती सर्दी पर हास्य कविताएँ ।

सर्दी पर हास्य कविताएँ

सर्दी पर हास्य कविताएँ

 काहे तू ठंड-ठंड ठंड करे

काहे तू ठंड-ठंड ठंड करे
ठंड तो अपनी जान बचाय
औरन का तो पता नहीं
पर अपने काम बहुत ये आय,

पता जरा न किसी को चलता
एक महीना जो न नहाय
झंझट न होय पसीने की
न सूरज ही है मुंह झुलसाय,

खर्चा पाउडर, डीओ का सब
रोज ही देखो बचता जाय
ढंका रहे जो तन ये अपना
मच्छर भी काटन को ना पाय,

परेशानी कोई भी न होवे
जो सोते-सोते लाइट जाए
घुसे-घुसे रजाई में ही
पता न चले सुबह हो जाय,

काहे तू ठंड-ठंड ठंड करे
ठंड तो अपनी जान बचाय
औरन का तो पता नहीं
पर अपने काम बहुत ये आय।

पढ़िए :- सही वक़्त में होने वाली गलत बातें


पसंद कहाँ है हमको ये सर्दी

पसंद कहाँ है हमको ये सर्दी
फिर भी चिपकती जाती है
कपड़े खूब पहनते फिर भी
अन्दर घुसती जाती है।

इस तरह के मौसम में
यूँ तो हम हफ्ते भर नहीं नहाते
मगर जब भी नहाते हैं
ये सर्दी बदन में बसती जाती है,
पसंद कहाँ है हमको ये सर्दी
फिर भी चिपकती जाती है।

फिर होता है हमको जुकाम
रुक जाते अपने सब काम
कभी-कभी तो बैठने के गले से
आवाज भी बैठ सी जाती है,
पसंद कहाँ है हमको ये सर्दी
फिर भी चिपकती जाती है।

दया जरा न दिखाती है
हमको जरा न भाती है
हमको बना के शिकार ये अपना
मंद-मंद मुस्काती है,
पसंद कहाँ है हमको ये सर्दी
फिर भी चिपकती जाती है।

पसंद कहाँ है हमको ये सर्दी
फिर भी चिपकती जाती है,
कपड़े खूब पहनते फिर भी
अन्दर घुसती जाती है।

पढ़िए :- सर्दी से बचने के हास्य भरे तरीके

‘ सर्दी पर हास्य कविताएँ ‘ में इन दोनों कविताओं के बारे में अपने विचार हम तक कमेंट बॉक्स द्वारा हम तक पहुंचाएं।

पढ़िए मौसम पर ये सुन्दर रचनाएं :-


धन्यवाद।

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email

3 thoughts on “सर्दी पर हास्य कविताएँ :- ठंड पर हिन्दी हास्य व्यंग्य कविताएँ”

  1. Avatar

    आपके साथ हमें भी इस बात की ख़ुशी है, कि हम इतनी शानदार साईट के नियमित पाठक और प्रशंशक हैं! ऐसे ही लिखते रहें हमारी शुभकामनाए आपके साथ है|

    बहुत बहुत आभार एवं धन्यवाद !

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *