Author: ApratimGroup

बसंत के दोहे

वसंत ऋतु पर कविता :- आयो वसंत | बसंत ऋतु पर छोटी कविता

वसंत ऋतु पर कविता में पढ़िए चारों ओर हरियाली और बहार के दृश्य का वर्णन। कैसे बसंत में जहाँ एक ओर पेड़-पौधे हरे-भरे होते हैं वहीं कई खेत सरसों के...

देशप्रेम पर छोटी कविता

देशप्रेम पर छोटी कविता :- भारत का हर  लाल कह रहा | भारत पाकिस्तान पर कविता

देशप्रेम पर छोटी कविता में पढ़िए पाकिस्तान को चुनौती देती एक भावपूर्ण कविता। भारत और पाकिस्तान की दुश्मनी से कौन वाकिफ नहीं है। जबसे भारत आज़ाद हुआ तब से ही...

मेले पर कविता

मेले पर कविता :- जब जब भी है आता मेला | मेला बाल कविता

मेले पर कविता में पढ़िए मेले के दृश्यों का वर्णन और मेले का उद्देश्य। मेला ही एक ऐसा अवसर होता है जब मनुष्य बहुत कम पैसों में या बिना पैसों...

basant panchami par nibandh

माँ सरस्वती वंदना कविता :- वागीश वीणावादिनी | वसंतपंचमी पर विशेष कविता

माँ सरस्वती वंदना कविता में पढ़िए माँ सरस्वती के प्रति एक कवि के भाव। माँ सरस्वती , जो बुद्धि की देवी हैं। वातावरण में बजने वाली हर धुन माँ सरस्वती...

जिंदगी पर कविता

जिंदगी पर कविता :- न जाने आज किस ओर जा रही है जिंदगी

जिंदगी पर कविता में पढ़िए कैसे जिंदगी हमें हर पल कुछ न कुछ दिखाती रहती है। कभी हंसाती है। कभी रुलाती है। कभी तो ऐसा लगता है मानो हमारी मर्जी...

चुनाव पर कविता

चुनाव पर कविता :- चुनावी मेला सजने लगा | झूठे नेताओं पर कविता

चुनाव पर कविता में पढ़िए झूठे नेताओं के चुनावी दिनों में झूठे वादों की कविता। आये साल कोई न कोई चुनाव आते ही रहते हैं। और हर चुनाव में नेता...