संघर्ष की शायरी :- संघर्षों से भरे संघर्षमयी जीवन को समर्पित शायरी | Struggle Status

जीवन में आगे बढ़ने के लिए हर व्यक्ति को संघर्ष तो करना ही पड़ता है। बिना संघर्ष के कहाँ कोई सफल हो पाता है। सफलता का वास्तविक आनंद तो संघर्ष से सफलता प्राप्त करने पर ही आता है। तो संघर्ष को ही मुख्या रखते हुए हम आपके समक्ष लाये हैं ‘ संघर्ष की शायरी ‘ :-

संघर्ष की शायरी

संघर्ष की शायरी

1.

पानी हैं मंजिलें तो राहों का होना ही होगा
कुछ पाने के लिए जिन्दगी में कुछ तो खोना ही होगा,
बिना संघर्ष किसे मिलती है कामयाबी यहाँ
तब तलक तो जिन्दगी का बोझ ढोना ही होगा।

2.

नींद आँखों में कहाँ आती है
मैंने ख्वाब ही इतने ऊँचें सजाये हैं
कहाँ मिली हैं अभी खुशियाँ मुझे
कितने ही पल तो मैंने संघर्ष में बिताये हैं,
मिलेगा मुझे भी एक दिन
ये आसमान यकीन है मुझे
जिन्दगी में कितने ही अरमान
मैंने इस ख्वाब पर लुटाये हैं।

3.

कुदरत का ये खेल पुराना है
हर एक को जीवन का मूल्य चुकाना है,
कोई धकेल रहा है, तो कोई कर रहा है संघर्ष
जन्म से शुरू हुए इस सफ़र को मौत तक पहुँचाना है।

4.

अपने जीवन में जो इसे अपनाता है
वही मुकद्दर का सिकंदर कहलाता है,
संघर्ष ही वो हथियार है दोस्तों
जो एक इन्सान को उसकी पहचान दिलाता है।

5.

बीतेगा ये दौर और वो दौर भी बीत जायेगा,
संघर्ष की इस आंधी के बाद एक नया दृश्य आएगा,
डटे रहना मैदान में चाहे कितना भी शोर हो
एक दिन ये जमाना तुम्हारे गीत गायेगा।

6.

बड़े बुजुर्गों का सबको बस एक ही परामर्श है,
खुशहाल जीवन पाने का रास्ता, बस एक संघर्ष है।

7.

बिन मकसद जो जीता है जानवर तुल्य है वो इन्सान,
संघर्ष करे जो पाने को मंजिल, बनता है बस वही महान।

8.

संघर्ष की राहों में कठिनाइयां तो आएँगी
जीवन का सच यही हमें बतायेंगी,
बढाते रहना कदम सब कुछ सहते हुए
एक दिन ये जिन्दगी खुशियों से सज जाएगी।

9.

चलना पड़ता है अंगारों पर इतिहास रचाने को
बिना ताकत झोंके तो एक जर्रा भी हिल नहीं सकता,
संघर्ष ही दिलाता है एक इंसान को मुकाम उसका
बिन मेहनत के कोई फल मिल नहीं सकता।

10.

न मिले जो मंजिल तो मुकद्दर की बात है
गुनाह तो तब हो जो जीवन में संघर्ष न रहे।

पढ़िए :- ओलिंपिक विजेता करोली की प्रेरणादायक कहानी

11.

संघर्ष ही जीवन का मूल है
संघर्ष ही जीवन का असूल,
बिन संघर्ष खैरात मिले
वो है बराबर धूल।

12.

ठहराव मौत और जीवन आगे बढ़ते जाना है,
सफ़र सुहाना उसी का है जिसने संघर्ष के महत्व को पहचाना है।

13.

जागती आँखों के सपने भी जब सोते हुए सताने लगें
बावरा मन भी उन्हीं ख्यालों में वक़्त बिताने लगे,
तो जरूरत होती है संघर्ष कर उन ख्वाबों को
हकीकत में हासिल करने की
इस से पहले की वो सभी एक-एक कर
हमारा साथ छोड़ जाने लगें।

14.

दायरा ख्वाबों का, हमारी सोच बताता है,
संघर्ष बताता है कि नीयत क्या है?

15.

खुशियों की क्या औकात
कि मेरे घर का रास्ता भटक जाएँ,
एक दफा ये संघर्ष की
रात तो ढलने दो।

16.

जिस दिन ख़त्म हुआ ये सफ़र संघर्ष का
अच्छे-अच्छों के दिमाग हिल जायेंगे,
ऐसा होगा फिर मेरी जिन्दगी का रसूख कि
सबको सबके सवालों के जवाब मिल जायेंगे।

17.

गर्म मौसम में घड़े का ठंडा पानी
कुछ और नहीं,है ये संघर्ष की कहानी
कहानी उस मिटटी की जिसे गूंथा गया,
पीटा गया और पकाया गया।

18.

यूँ ही नहीं रोशन हुआ है चारों ओर नाम मेरा
जल रही है एक आग जो मैंने अपने सीने में जलायी थी,
दिन-रात सहेज कर रखी मैंने उस आग की जलन
उसी जलन में किये संघर्ष ने मुझे मेरी पहचान दिलाई थी।

19.

वो क्या पा लेंगे अपने ख्वाबों का आसमान
जिनकी हद बस जमीन तक सीमित है,
यूँ ही नहीं मिल जाते ऐश और आराम जिन्दगी में
संघर्ष ही कामयाबी की होती कीमत है।

20.

संघर्ष की कीमत जिन्दगी से कुछ ज्यादा नहीं,
मगर इससे जो हासिल होता है
शायद तुम्हें उसका अंदाजा नहीं।

पढ़िए :-  सफलता की कहानी ‘ जादुई पत्थर ‘

‘ संघर्ष की शायरी ‘ शायरी संग्रह के बारे में अपने विचार हम तक कमेंट बॉक्स के जरिये जरूर पहुंचाएं।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

2 Responses

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *