श्मशान नज़र आता है :- आज के हालातों को बयान करती कविता

आज के हालातों को बयां करती हुयी सलिल सरोज जी की कविता श्मशान नज़र आता है :-

श्मशान नज़र आता है

श्मशान नज़र आता है

जो देखूँ दूर तलक तो कहीं बियाबाँ , कहीं तूफाँ नज़र आता है
इस फ़िज़ा की मुस्कराहट के पीछे कोई श्मशान नज़र आता है,

इंसानों ने अपनी हैवानियत में आके किसी को भी नहीं बख्शा है
कभी ये ज़मीं लहू-लुहान तो कभी घायल आसमाँ नज़र आता है,

मशीनी सहूलियतों ने ज़िन्दगी की पेचीदगियाँ यूँ बढ़ा दी हैं कि
जिस इंसान से मिलो,वही इंसान थका व परेशान नज़र आता है,

क़ानून की सारी ही तारीखें बदल गई हैं पैसों की झनझनाहट में
मुजरिमों के आगे सारा तंत्र ही न जाने क्यों हैरान नज़र आता है,

किताबें,आयतें,धर्म,संस्कृति,संस्कार,रिवाज़ सब के सब बेकार
शराफत की आड़ में छिपा सारा महकमा शैतान नज़र आता है,

बच्चों की मिल्कियत छीनके अपने उम्मीदों का बोझ डाल दिया
मेरी निगाहों में अब तो हर माँ-बाप ही बेईमान नज़र आता है,

जो देखूँ दूर तलक तो कहीं बियाबाँ , कहीं तूफाँ नज़र आता है
इस फ़िज़ा की मुस्कराहट के पीछे कोई श्मशान नज़र आता है।

पढ़िए :- इंसानियत पर कविता ‘सब बिकाऊ हैं’


सरोज सलिलयह कविता हमें भेजी है सलिल सरोज जी ने दिल्ली से जिनका परिचय इस प्रकार है :-

शिक्षा: आरंभिक शिक्षा सैनिक स्कूल, तिलैया, कोडरमा,झारखंड से। जी.डी. कॉलेज,बेगूसराय, बिहार (इग्नू)से अंग्रेजी में बी.ए(2007), जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, नई दिल्ली से रूसी भाषा में बी.ए(2011), जीजस एन्ड मेरीकॉलेज, चाणक्यपुरी(इग्नू)से समाजशास्त्र में एम.ए(2015)।

प्रयास: Remember Complete Dictionary का सह-अनुवादन, Splendid World Infermatica Study का सह-सम्पादन, स्थानीय पत्रिका ”कोशिश” का संपादन एवं प्रकाशन, “मित्र-मधुर”पत्रिका में कविताओं का चुनाव।

सम्प्रति: सामाजिक मुद्दों पर स्वतंत्र विचार एवं ज्वलन्त विषयों पर पैनी नज़र। सोशल मीडिया पर साहित्यिक धरोहर को जीवित रखने की अनवरत कोशिश।

‘ श्मशान नज़र आता है ‘ के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हामरे ब्लॉग के जरिये लोगन तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ [email protected] पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

You may also like...

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।