इंसानियत पर एक कविता – सब बिकाऊ है | Inspirational Hindi Poem

इंसानियत पर एक कविता आप लोग पढ़ रहे है, जिसका शीर्षक है – सब बिकाऊ है।

इंसानियत पर एक कविता – सब बिकाऊ है

इंसानियत पर एक कविता

खुला बाजार ये कैसा
यहाँ मजहब भी है बिकता,
कि बिकता है इंसान यहाँ
और हर रब भी है बिकता ।

न जाने कैसी दुनिया है
कि अब ईमान नहीं टिकता,
मुझे हिन्दू भी दिखता है
मुझे मुस्लिम भी दिखता है,
मगर अफ़सोस कि बन्दा
खुदा का अब नहीं दिखता।
कि बिकता है इंसान यहाँ
और हर रब भी है बिकता ।

है पैसों से नाम, शोहरत
कि है औकात पैसों से,
कि जिससे होती है
इज्जत बूढ़े बुजुर्गों की
शर्म आती है मुझको की
अब वो सलाम नहीं दिखता।
कि बिकता है इंसान यहाँ
और हर रब भी है बिकता ।



हो अपनापन यहाँ जिसमें
वो रिश्ता अब नहीं दिखता
दिखते हैं लुटेरे हर तरफ
इरादे नापाक हैं जिनके
बचाने सामने आये
फरिश्ता अब नहीं दीखता
कि बिकता है इंसान यहाँ
और हर रब भी है बिकता ।

खुला बाजार ये कैसा
यहाँ मजहब भी बिकता है,
कि बिकता है इंसान यहाँ
और हर रब भी है बिकता ।

इंसानियत पर एक कविता आपको कैसी लगी और इस कविता में सामने रखी गयी बाते के बारे में आपका क्या विचार है हमें कमेंट के माध्यम से जरुर बताये।

ये बेहतरीन कविताएं भी पढ़िए-

अभी शेयर करे
WhatsAppFacebookTwitterGoogle+BufferPin It

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Add Comment