सपनों की उड़ान कविता :- आँखों में हैं सपने पलते | Sapno Ki Udaan Kavita

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है।
रचना पसंद आये तो हमारे प्रोत्साहन के लिए कमेंट जरुर करें। हमारा प्रयास रहेगा कि हम ऐसी रचनाएँ आपके लिए आगे भी लाते रहें।

सपने मनुष्य की इच्छा और आकांक्षाओं के प्रतीक होते हैं। सभी मनुष्य अपने जीवन में सुन्दर भविष्य के सपने देखते हैं। नींद में बन्द आँखों से देखे गए सपने मनुष्य की दमित इच्छाओं के प्रतिरूप होते हैं वहीँ खुली आँखों से देखे जाने वाले सपने  यथार्थ  पर आधारित होते हैं। सपनों को पूरा करने के लिए मनुष्य रात – दिन कठिन परिश्रम करता है लेकिन यह आवश्यक नहीं है कि आदमी के सभी सपने पूरे हों। सपनों के टूटने पर व्यक्ति को निराश नहीं होना चाहिए। जीवन सपनों से बड़ा होता है। हमें जीवन की कटुताओं को स्वीकार कर हँसते हुए जीना चाहिए। आइये पढ़ते हैं इन्हीं सपनों को समर्पित ” सपनों की उड़ान कविता “

सपनों की उड़ान कविता

सपनों की उड़ान कविता

आँखों में हैं सपने पलते
साँसों में हैं सपने ढलते,
कुछ सपने होते हैं पूरे
कुछ सपने रहते हैं छलते।

रात दिवस ये दौड़ लगाते
हमसे आगे भागे जाते,
जब इच्छाएँ सो जाती हैं
सपने आकर इन्हें जगाते।

सपनों से जीवन में आशा
ये खुशियों के खील – बताशा,
धारण करके रूप बहुत से
दिखा रहे ये खेल तमाशा।

हैं छोटों के सपने छोटे
और बड़ों के सपने मोटे,
कुछ सपनों को धार मिले तो
कुछ सपने रह जाते भोटे।

ये माँ के आँचल में पलते
थाम पिता की उँगली चलते,
युवकों के दिल की धड़कन में
शोलों – से ये रहे मचलते।

होता मन जब रीता – रीता
लगता सब कुछ बीता – बीता,
ऐसे में सपनों के बल पर
थका मनुज इस जग में जीता।

सपने टूट कभी हैं जाते
दूर कभी हम इनको पाते,
कभी कभी तो मृगतृष्णा बन
ये हमको रहते भरमाते।

करें सहन सपनों की टूटन
हैं सपनों से बढ़कर जीवन,
कुछ फूलों के झर जाने से
मरा नहीं करता है उपवन।

सपनों की उड़ान कविता का विडियो यहाँ देखें :-

‘ सपनों की उड़ान कविता ‘ के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

पढ़िए अप्रतिम ब्लॉग की ये सुंदर रचनाएं :-


धन्यवाद।

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *