एक अद्भुत कलाकार :- ईश्वर की महिमा बयां करती हिंदी कविता

यह कविता है एक ऐसे कलाकार के बारे जिसे कोई नहीं देख सकता लेकिन उसकी रचना को सब देख सकते हैं। उसके पास ऐसी कला है कि वो कुछ भी बना और मिटा सकता है। वो मिट्टी में जान फूंक देता है और किसी को भी मिट्टी में मिला देता है।

उसकी शक्ति और महिमा दोनों ही अपरम्पार हैं। उसके लिए कुछ भी असंभव नहीं है। वो हमारा जन्मदाता है वही हमारी हर जरूरत को पूरी करता है। संसार में हमारा जन्म भी उस कलाकार को पाने और उसे जानने के लिए होता है। आइये जानते हैं उस अद्भुत कलाकार के बारे में जो सारी कलाओं का ज्ञाता है कविता ‘ एक अद्भुत कलाकार ‘ में :-

एक अद्भुत कलाकार

एक अद्भुत कलाकार

नैन दिए जग देखन को
और मन को इसका सार दिया
दिए हैं उसने रिश्ते नाते
और प्यार की खातिर परिवार दिया,
दिया है जिसने नील गगन ये
और जिसने रचा संसार है
सर्वव्यापी और अनदेखा है
वो एक अद्भुत कलाकार है।

आदि न उसका अंत है कोई
न ओर न कोई छोर ही है
फिर भी उसके हाथों में
सब के जीवन की डोर है,
कर न सके जो कोई
वो करता चमत्कार है
सर्वव्यापी और अनदेखा है
वो एक अद्भुत कलाकार है।



आज भी है वो कल भी होगा
समय के इस पल-पल में होगा
वायु, मेघ और वर्षा क्या है
वो थल में और जल में भी होगा,
रूप न उसका रंग है कोई
न कोई आकार है
सर्वव्यापी और अनदेखा है
वो एक अद्भुत कलाकार है।

मिलता समर्पण त्याग से है वो
प्रेम के बजते राग में है वो
मिल जाता है हर शख्स में वो
मिलता किसी को वैराग्य से है वो,
वही उद्देश्य है जीवन का
वही मिटाता हर अन्धकार है
सर्वव्यापी और अनदेखा है
वो एक अद्भुत कलाकार है।

माने न जो उसके दिए को
बड़ा बताये अपने किये को
पाप करे और सब को सताए
हर वस्तु पे अपना हक़ जो जताए,
आता है वो फिर धरती पर
जब बढ़ता अत्याचार है
सर्वव्यापी और अनदेखा है
वो एक अद्भुत कलाकार है।



उसकी छूटी माया है
जिसने तुझको पाया है
भटक रहा है ये जग न जाने
वो तुझको पाने आया है,
होती उसकी नजर है जिस पर
होता उसका बेड़ा पार है
सर्वव्यापी और अनदेखा है
वो एक अद्भुत कलाकार है।

पढ़िए :- मत बांटो इंसान को :- भारतीय समाज पर कविता

आपको यह कविता ‘ एक अद्भुत कलाकार ‘ कैसी लगी? अपने विचार हम तक अवश्य बतायें। हमे आपकी प्रतिक्रियाओं का इन्तजार रहेगा।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।