रक्षाबंधन पर शायरी :- राखी पर भाई और बहन की शायरी | Rakhi Shayari

रिश्ते तो कई होते हैं दुनिया में लेकिन एक रिश्ता बहुत ही खास होता है। ये रिश्ता है भाई और बहन का। भाई और बहन चाहे कितनी ही दूर क्यों न हों। उनके बीच का प्यार कभी कम नहीं होता। माँ के बाद बहन ही होती है जो एक आदमी के लिए हमेशा दुआ मांगती रहती है और उसका ख्याल रखती है।

बहन छोटी हो या बड़ी, वो हमेशा भाई का ख्याल रखती है और अपने भाई से बहुत प्यार करती है। वैसे तो भाई-बहन का प्यार सदा बरक़रार रहता है लेकिन एक ऐसा पर्व है जो इस प्यार को कई गुना बाधा देता है वो है रक्षाबंधन का त्यौहार। इसी प्यार के एहसास को मैंने शायरी में प्रस्तुत करने की कोशिश की है। आइये पढ़ते हैं :- ” रक्षाबंधन पर शायरी “

रक्षाबंधन पर शायरी

रक्षाबंधन पर शायरी

1.

रिश्ते कई हैं दुनिया में पर ये रिश्ता कुछ खास है
बहना ने जो हाथों पे बांधा वो धागा नहीं विश्वास है,
दूरी हो चाहे कोसों की पर दिल से कभी न दूर हैं
ख़ुशी हो या हो गम हो कोई उसे हो जाता अहसास है
रिश्ते कई हैं दुनिया में पर ये रिश्ता कुछ खास है।


2.

न मांगे वो धन और दौलत, न मांगे उपहार
चाहत उसकी इतनी की बस बना रहे ये प्यार,
गम न कोई पास में आये खुशियाँ मिले हजार
ऐसा ही सन्देश है लाता राखी का ये त्यौहार
ऐसा ही सन्देश है लाता राखी का ये त्यौहार।



3.

कितने दिनों के बाद
सूनी कलाई पर बहना का प्यार आया है,
सब भाई-बहनों को मुबारक हो
जो ये राखी का त्यौहार आया है।


4.

बंधन ये प्यार का जो तूने
मेरे हाथों पर बांधा है,
मरते दम तक मैं अपना फ़र्ज़ निभाऊंगा
तुझसे ये मेरा वादा है।


5.

रेशम की डोरी हाथों में
और माथे पे लगा है चन्दन
सलामत रहे भाई हमारा
करते हैं प्रभु के आगे वंदन।


6.

गम मेरे हों सारी जिंदगी के
और सारी खुशीयाँ तुम्हारी हो,
इस भाई की जान हो तुम
और पापा की राजकुमारी हो।


7.

वो सदा ख्याल रखता है उसका
और उसे सिर आँखों पर बिठाता है,
दुनिया का हर भाई अपनी बहन को
जी-जान से भी ज्यादा चाहता है।


8.

सावन के महीने में जो पावन पर्व ये आता है
हर बहन को ये अपने भाई से मिलवाता है
रक्षा बंधन का ये त्यौहार है ऐसा
भाई-बहन के लिए जो ढेरों खुशियाँ लाता है।



9.

वो उसे लगती परी, वो उसे लगता फ़रिश्ता है,
भाई-बहन का कुछ ऐसा ही रिश्ता है।


10.

हर रिश्ते से ये रिश्ता जुदा है
क्योंकि इसमें प्यार का सागर बसा है,
उसके गम को हमेशा दूर किया है भाई ने
और उसकी खुशियों में उसके संग हंसा है।


11.

एक मर्द की तकलीफ जिसको
बिलकुल भी न सहन है
एक है माँ और
दूसरी बहन है।


12.

जब भी मुसीबत पड़ेगी हम पर
हमारे हक़ में दुवायें कौन मांगेगा,
जब बहनें ही न रहेंगी इस दुनिया में
तो राखी कौन बांधेगा?


13.

तेरी तरफ जो रुख करेंगी गरम हवाएं तो
तो उनको भी जला कर ख़ाक कर दूंगा
ओ मेरी प्यारी बहना जो तुझे किसी ने सताया
तो ये कायनात भी जला कर राख कर दूंगा।



14.

बचपन की वो शैतानियाँ मुझे आज भी याद आती हैं,
उस वक़्त तो बस मेरी आँखें भर जाती हैं,
दिल को मिल जाता है सुकून और रूह खुश हो जाती हैं
जब रक्षाबंधन पर मेरी बहना राखी लेकर आती है।


15.

साधारण सा धागा नहीं ये विश्वास की एक डोर है,
कोई तोड़ सके इसे न किसी में इतना जोर है
कौन कहता है की अंत हो जाता है हर रिश्ते का
ये वो रिश्ता है जिसका न कोई ओर न कोई छोर है।


रक्षा बंधन स्पेशल शॉपिंग | भाई के लिए गिफ्ट | बहन के लिए गिफ्ट | राखियाँ


आपको यह ” रक्षाबंधन पर शायरी ” शायरी संग्रह कैसा लगा? इसके बारे में हमें अवश्य बतायें। इस शायरी को सोशल प्लेटफॉर्म्स पर जरूर शेयर करें। आप सबको अप्रतिम ब्लॉग की तरफ से रक्षाबंधन की बहुत-बहुत शुभकामनायें।

धन्यवाद।

अभी शेयर करे
WhatsAppFacebookTwitterGoogle+BufferPin It

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

16 Comments

  1. Avatar Hindi shayari
  2. Avatar Bhundwaji Naresh
  3. Avatar Md Badshah Ansari
  4. Avatar sanjay
  5. Avatar Suresh Kumar Verma
  6. Avatar Subhash khant
  7. Avatar sushila
  8. Avatar Nageshwar Dhakad

Add Comment