जिंदगी के मैदानों में – प्रेरक कविता | Best Inspirational Hindi Poem

जिन्दगी  एक मैदान की तरह है । जिसमे हमें वही दिखता है जो हम देखना चाहते हैं। ऐसे में हम न जाने क्यों दुनिया की बुरी बातें देख कर अपना हौसला छोड़ देते हैं। ऐसे ही हालत में हमें हौसला रख आगे बढ़ने की प्रेरणा देती है ये हिंदी प्रेरक कविता :- जिन्दगी के मैदानों में ।

प्रेरक कविता – जिंदगी के मैदानों में

jindagi ke maidano me प्रेरक कविता

अजीब सी धुन बजा रखी है
जिंदगी ने मेरे कानों में,
कहाँ मिलता है चैन
पत्थर के इन मकानों में।
बहुत कोशिश करते हैं
जो खुद का वजूद बनाने की
हो जाते हैं दूर अपनों से
नजर आते है बेगानों में।

हस्ती नहीं रहती दुनिया में
इक लंबे दौर तक,
आखिर में जगह मिलती है
उन्हें कहीं दूर श्मशानों में।
न कर गम कि
कोई तेरा नहीं,
खुश रहने की राह है
मस्ती के तरानों में

जान ले कि दुनिया
साथ नहीं देती,
कोई दम नहीं होता
इन लोगों के अफसानों में।
क्यों रहता है निराश
अपनी ही कमजोरी से
झोंक दे सब ताकत अपनी
करने को फतह मैदानों में।

खुद को कर दे खुदा के हवाले
ऐ इंसान
कि असर होता है
आरती और आजानों में,
करना है बसर तो
किसी की खिदमत में कर
वर्ना क्या फर्क है
तुझमें और शैतानों में।

करना है तो कर गुजर कुछ
किसी और की ख़ातिर
बन जाए अलग पहचान
तेरी इन इंसानों में
बन जाए अलग पहचान
तेरी इन इंसानों में।

पढ़िए- हिंदी कविता – थक चुका हूँ मैं

 


ये प्रेरक कविता आपको कैसी लगी हमें जरुर बताये, और दुसरो तक भी शेयर करे।

धन्यवाद। तबतक पढ़े ये प्रेरक लेख-

[

अप्रतिमब्लॉग में नए रचनाओं को अपने इनबॉक्स में पाने के लिए हमारे न्यूज़ लेटर सब्सक्रिप्शन से जुड़िये।