जिंदगी के मैदानों में – प्रेरक कविता | Inspirational Hindi Poem

जिन्दगी  एक मैदान की तरह है । जिसमे हमें वही दिखता है जो हम देखना चाहते हैं। ऐसे में हम न जाने क्यों दुनिया की बुरी बातें देख कर अपना हौसला छोड़ देते हैं। ऐसे ही हालत में हमें हौसला रख आगे बढ़ने की प्रेरणा देती है ये हिंदी कविता :- जिन्दगी के मैदानों में ।

प्रेरक कविता – जिंदगी के मैदानों में

jindagi ke maidano me प्रेरक कविता

अजीब सी धुन बजा रखी है
जिंदगी ने मेरे कानों में,
कहाँ मिलता है चैन
पत्थर के इन मकानों में।
बहुत कोशिश करते हैं
जो खुद का वजूद बनाने की
हो जाते हैं दूर अपनों से
नजर आते है बेगानों में।

हस्ती नहीं रहती दुनिया में
इक लंबे दौर तक,
आखिर में जगह मिलती है
उन्हें कहीं दूर श्मशानों में।
न कर गम कि
कोई तेरा नहीं,
खुश रहने की राह है
मस्ती के तरानों में

जान ले कि दुनिया
साथ नहीं देती,
कोई दम नहीं होता
इन लोगों के अफसानों में।
क्यों रहता है निराश
अपनी ही कमजोरी से
झोंक दे सब ताकत अपनी
करने को फतह मैदानों में।

⇒पढ़िए- जिंदगी क्या है? – जिंदगी पर कविता⇐

खुद को कर दे खुदा के हवाले
ऐ इंसान
कि असर होता है
आरती और आजानों में,
करना है बसर तो
किसी की खिदमत में कर
वर्ना क्या फर्क है
तुझमें और शैतानों में।

करना है तो कर गुजर कुछ
किसी और की ख़ातिर
बन जाए अलग पहचान
तेरी इन इंसानों में
बन जाए अलग पहचान
तेरी इन इंसानों में।

 


ये प्रेरक कविता आपको कैसी लगी हमें जरुर बताये, और दुसरो तक भी शेयर करे।

धन्यवाद। तबतक पढ़े ये प्रेरक लेख-

 

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

13 Responses

  1. ghanshyam kumar कहते हैं:

    App ke es kabita se hame jindgi ka ashli matlab samajh me ata hai.kahi dhup to kahi chaya hai prabhu ki ahi maya hai.kahi gam to kahi khushi hai.jindgi ki ahi maja hai.enshano ko nahi milta road chalne ko janwaro ko milta hai a/c me ghumne ko.mushkrate hai log dushro ki mushibat par apni jindgi chor aate hai.makhane par.

  2. janardan Dixit कहते हैं:

    मेरे शब्द कोष मे एसा कोई शब्द नही जो आप की इस कविता को लिख पाउं

  3. रेनू सिंघल कहते हैं:

    बहुत सुंदर कविता शब्दों को बड़ी ही खूबसूरती से पिरोया गया है ।

  4. ARPAN KHOSLA कहते हैं:

    Hi
    My name is ARPAN KHOSLA.
    I have launched this search engine website called www.rhymly.com which helps budding poets, shayars, lyricists, rappers, theatre jingle writers, etc. find rhymes of all common Hindi words. Also, This personal Hindi Rhyming Dictionary of yours is completely FREE. Can you use it & do a story on it via your platform so as to help relevant artists discover this initiative?
    Thanks ?

  5. दिलीप कहते हैं:

    आप का लेखन बहुत ही खुब है ,दिल की बात शब्दो मे जाहीर करना आप जानते है ।

  6. ऋषभ शुक्ला कहते हैं:

    बहूत ही सुन्दर रचना, बधाई|

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *