हिंदी कविता – थक चुका हूँ मैं | Hindi Poem – Thak Chuka Hu Mai

दोस्तों हम सब के दिल में कई बार अपने जीवन के हालातों को देखकर बहुत दुःख होता है। जब कई प्रयासों के बाद भी हमें सफलता न मिले। उस समय लगता है कि हमारा जीवन व्यर्थ सा है। ऐसी ही कुछ पीड़ा मैंने इस कविता द्वारा पेश करने की कोशिश की है। थक चुका हूँ मैं


हिंदी कविता – थक चुका हूँ मैं

थक चुका हूँ मैं

जीवन की इस भाग दौड़ से
हर आने वाले नए मोड़ से
थक चुका हूँ मैं।

हर पल एक नई जंग की तैयारी होती है
रोज उठता हूँ तो कई ग़मों से यारी होती है,
कलम उठा कर लिखने लगता हूँ मैं जज़्बात अपने
पढ़ लेता है कोई तो बहुत दुश्वारी होती है,
संघर्षों की आग में अब
पक चुका हूँ मैं,
जीवन की इस भाग दौड़ से
हर आने वाले नए मोड़ से
थक चुका हूँ मैं।

बहुत मुश्किल से दो पल फुर्सत का इंतजाम होता है
करने वाला कोई और है और किसी और का नाम होता है,
तबाह होते हैं जब शहर, तो शहज़ादे महफूज होते हैं
कोई बर्बाद होता है तो वो लोग आम होते हैं,
भेदभाव की इस दुनिया में
अटक चुका हूँ मैं,
जीवन की इस भाग दौड़ से
हर आने वाले नए मोड़ से
थक चुका हूँ मैं।

कुछ छोड़ देते हैं खाना डाइटिंग के नाम पर
कुछ लोगों को न एक वक्त खाना नसीब होता है,
तपती गर्मी में कई ऐसी के नीचे सोते हैं
हादसे सोते लोगों के साथ तो बस फुटपाथ पर होते हैं,
कानून भी हस्ती का होता है अब ये सीख
सबक चुका हूँ मैं,
जीवन की इस भाग दौड़ से
हर आने वाले नए मोड़ से
थक चुका हूँ मैं।

न जाने कब कोई सुधार आएगा
वतन को सुधारने कब कोई अवतार आएगा,
बचपन से जो देखी है मैंने हालत हिंदुस्तान की
न जाने कितनी बार सिसक चुका हूँ मैं,
जीवन की इस भाग दौड़ से
हर आने वाले नए मोड़ से
थक चुका हूँ मैं
थक चुका हूँ मैं।

सूरज निकल गया | संघर्षमय जीवन पर प्रेरणादायक हिंदी कविता

ये कविता आपको कैसी लगी हमें जरुर बताये, और शेयर करे। ऐसे नए नए कविताये पाने के लीये हमारे फेसबुक पेज से जुड़े और हमारे ईमेल अपडेट सब्सक्राइब करे।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

8 Responses

  1. Lalit Banjara कहते हैं:

    Awesome really superb and inspiring…if you don't mind than i give you a beautiful suggestion actually aap apni post ki url me hindi words ka use kar rahe hai…agar aap meri baat manange to isme english words ka use kare jald hi aapka blog top par aane lagega

  2. Ajay Ingle कहते हैं:

    Bahut khub likha hai janab aapki shayri wake dam hai……Very nice

  3. Zeeshan कहते हैं:

    Bahut achha laga kavita padh kar.
    Kya ye kavitayen aapki hai?

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *