राष्ट्र निर्माण पर कविता – जन-जन में विश्वास है | Rashtra Nirman Par Kavita

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है।
रचना पसंद आये तो हमारे प्रोत्साहन के लिए कमेंट जरुर करें। हमारा प्रयास रहेगा कि हम ऐसी रचनाएँ आपके लिए आगे भी लाते रहें।

भारत के जन-जन में  देशभक्ति का संचार करती ( Rashtra Nirman Par Kavita ) राष्ट्र निर्माण पर कविता

राष्ट्र निर्माण पर कविता

राष्ट्र निर्माण पर कविता

जन-जन में विश्वास है,
कण-कण में हैं राम ।।
बच्चा-बच्चा देश का,
आय राम के काम ।।

राम तिहारे देश में,
सबका हो सम्मान ।
मर्यादा में सब रहें,
सब कोय एक समान ।।

मिल सबने जग को दिया,
अच्छा ये पैगाम ।
राम-राज हो देश में,
आय दीन के काम ।।

नहीं किसी की जीत है,
नहीं किसी की हार ।
सबने मिल जीता दिया,
भारत को इस बार ।।

कोई ज्यादा न उछले,
न कोय शोक मनाय ।
सोचे हो कि तुम कितना,
काम देश के आय ।।

छुटके भैय्या ने दिया,
संयम का उपहार ।
बड़े भैय्या अब बनके,
उसको दें हम प्यार ।।

मंदिर औ मस्जिद बने,
आस्था की सौगात।
पर इससे पहले करो,
राष्ट्रनिर्माण की बात ।।


पढ़िए :- संस्कृत भाषा पर लेख “रोचक तथ्य व महत्वपूर्ण जानकारी”


विनय कुमारयह रचना हमें भेजी है आदरणीय विनय कुमार जी ने जो की अभी रेलवे में कनिष्ठ व्याख्याता के रूप में कार्यरत हैं।
रचनाएं व अवार्ड: इनकी रचनाएं देश के 50 से अधिक पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी है। जिस के फलस्वरूप आप कई बार सम्मानित हो चुके हैं। गत वर्ष 2018 का रेलमंत्री राष्ट्रीय अवार्ड भी रेल मंत्री ने दिया था।
लेखन विद्या: गीत, ग़ज़ल, दोहा, कुण्डलिया छन्द, मुक्तक के अलावा गद्य में निबंध, रिपोर्ट, लघुकथा इत्यादि। तकनीकी विषय मे हिंदी में लेखन।

‘ राष्ट्र निर्माण पर कविता ‘ ( Rashtra Nirman Par Kavita ) के बारे में अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

धन्यवाद।

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *