श्री कृष्ण जन्म पर कविता :- जन्में हैं कृष्णा कन्हाई | कृष्ण जन्माष्टमी पर कविता भाग – 2

श्री कृष्ण के जन्म और उनकी गोकुल तक की यात्रा को आप पढ़ चुके हैं हमारी जन्माष्टमी पर पहली कविता में। यदि आपने अभी तक वह कविता नहीं पढ़ी। तो पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें। इस कविता में हमने गोकुल के उस द्रीश्य को प्रस्तुत करने का प्रयास किया है। जिसमे श्री कृष्ण के जन्म के बाद उत्सव मनाया जा रहा है। आइये पढ़ते हैं श्री कृष्ण जन्म पर कविता में :-

श्री कृष्ण जन्म पर कविता

श्री कृष्ण जन्म पर कविता

बाजे ढोल मृदंग हैं देखो
बाजी है शहनाई,
बधाई हो बधाई
जन्मे हैं कृष्णा कन्हाई।

मात यशोदा गोद में लेकर
कान्हा का माथा चूमे
सारा गोकुल जश्न मनाता
सब भक्ति में झूमें,
बलराम के जीवन में आया
उसका है प्यारा भाई
बधाई हो बधाई
जन्मे हैं कृष्णा कन्हाई।

दर्शन पाने की खातिर
कितने ही लोग हैं आये
जो भी करे है दर्शन
उसका जन्म सफल हो जाए,
जन्म दिया है देवकी ने
पालेंगी यशोदा माई
बधाई हो बधाई
जन्मे हैं कृष्णा कन्हाई।

जब-जब पाप बढ़ा है
जब भी बढ़ा है अत्याचार
तब-तब प्रभु ने मेरे
लिया है एक अवतार,
धरती माँ हुयी प्रसन्न कि
अब है कंस की मृत्यु आई
बधाई हो बधाई
जन्मे हैं कृष्णा कन्हाई।

यमुना हुयी आनंदित
आनंदित हुयी है सारी गैया
गोकुल में खेलने आया है
सरे जग का रचैया,
जब भी कोई विपदा आती
होता है वही सहाई
बधाई हो बधाई
जन्मे हैं कृष्णा कन्हाई।

बाजे ढोल मृदंग हैं देखो
बाजी है शहनाई,
बधाई हो बधाई
जन्मे हैं कृष्णा कन्हाई।

पढ़िए :- कृष्ण, अर्जुन और ब्राह्मण की कहानी

श्री कृष्ण जन्म पर कविता आपको कैसी लगी? अपने विचार हमारे एनी पाठकों तक अवश्य पहुंचाएं। यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हामरे ब्लॉग के जरिये लोगन तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ [email protected] पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

ध्ग्न्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *