दोस्ती पर कविता :- फ्रेंडशिप डे पर दोस्त को समर्पित बेहतरीन कविता

दोस्ती पर कविता में पढ़िए एक दोस्त की जिंदगी में क्या अहमियत होती है। दोस्त ही तो वो शख्स होता है जिसके साथ हम अपने दिल की वो बातें कर सकते हैं जो हम किसी और से नहीं कर सकते। दोस्त एक मान की तरह प्यार देता है। पिता की तरह डांटता है और भाई की तरह ख्याल रखता है। ऐसा दोस्त हमें अपनी जान से भी प्यारा होता है। तो आइये पढ़ते हैं फ्रेंडशिप डे को समर्पित ऐसे ही एक दोस्त के लिए दोस्ती पर कविता :-

दोस्ती पर कविता

दोस्ती पर कविता

कोई छिपी हुयी ये बात नहीं
जाने ये जहान भी सारा है,
हमको तो अपनी जान से भी
ए यारा तू तो प्यारा है।

अब का नहीं जन्मों का है
लगता है अपना याराना
क्या रिश्ता है हम दोनों में
मुश्किल है सबको समझाना,
मेरे लिए तो तू जैसे
अंबर में चमकता तारा है
हमको तो अपनी जान से भी
ए यारा तू तो प्यारा है।

जिंदगी में जब से मेरी तू
फ़रिश्ता बन कर आया है
खुशियों ने भी अपना डेरा
मेरे साथ जमाया है,
मैं नीर का जैसे प्यासा हूँ
तू नदिया की बहती धारा है
हमको तो अपनी जान से भी
ए यारा तू तो प्यारा है।

तेरे रहते मुझको तो कभी
न प्यार की कोई कमी आई
माँ-बाप, बहन-भाई की तू
है मेरे लिए तो परछाई,
मुझे संभाला गिरने से
जिसने तो वही सहारा है
हमको तो अपनी जान से भी
ए यारा तू तो प्यारा है।

तू रहे सलामत यार मेरे
बस यही दुआ हम करते हैं
तेरे लिए कुछ भी कर जाएँ
हम मौत से भी न डरते हैं,
तू भी तो भागा आया है
हमने जब-जब तुझको पुकारा है
हमको तो अपनी जान से भी
ए यारा तू तो प्यारा है।

कोई छिपी हुयी ये बात नहीं
जाने ये जहान भी सारा है,
हमको तो अपनी जान से भी
ए यारा तू तो प्यारा है।

पढ़िए :- दोस्ती पर बेहतरीन शायरी संग्रह

अगर आपको यह कविता पसंद आई तो शेयर करें अपने दोस्तों के साथ और उन्हें भी ये अहसास दिलाएं कि वो आपके लिए जीवन में क्या महत्त्व रखते हैं।

धन्यवाद।

अभी शेयर करे
WhatsAppFacebookTwitterGoogle+BufferPin It

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Add Comment