दोस्ती पर दोहे – दोस्ती के रिश्ते को समर्पित हिंदी दोहा संग्रह

जीवन में परिवार के बाद यदि किसी का सबसे ज्यादा महत्त्व होता है तो वह होता है हमारे मित्र, सखा या दोस्त का। जिसके साथ हम अपने दिल की बातें कर सकते हैं। लेकिन ऐसा नहीं है कि मित्र परिवार के बहार ही होते हैं। पारिवारिक सदस्य भी  जब हमें अच्छी तरह से समझने लगते हैं तो वो भी हमारे दोस्त जैसे हो जाते हैं। संसार में दोस्ती की कई मिसालें हैं। जैसे कृष्ण-सुदामा, कर्ण-दुर्योधन आदि। आइये पढ़ते हैं मित्रता को समर्पित  ” दोस्ती पर दोहे ”

दोस्ती पर दोहे

दोस्ती पर दोहे

रखिये ऐसा दोस्त जो,
नीम की भांति होय ।
कड़वा-कड़वा बोल के,
सद्गुण तुझ में बोय ।।

दोस्त भले कम ही रखें,
पर हो सच्चा यार ।
जब तुम संकट में पड़ो,
तुझको लेय उबार ।।

कृष्ण गर तुम बने कभी,
नहीं सुदामा भूल ।
दोस्त मुश्किल से मिलते,
करिये बात कबूल ।।

अवगुण अपने दोस्त के,
मुख पर बोलो यार ।
पीठ बड़ाई तुम करो,
उत्तम यही विचार ।।

जो भी तेरे राज हैं,
मन में रक्खे गोय ।
जो आपसे नहीं जले,
दोस्त असल में होय ।।

पढ़िए :- दोस्तों की याद में बेहतरीन शायरी संग्रह


विनय कुमारयह रचना हमें भेजी है आदरणीय विनय कुमार जी ने जो की अभी रेलवे में कनिष्ठ व्याख्याता के रूप में कार्यरत हैं।
रचनाएं व अवार्ड: इनकी रचनाएं देश के 50 से अधिक पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी है। जिस के फलस्वरूप आप कई बार सम्मानित हो चुके हैं। गत वर्ष 2018 का रेलमंत्री राष्ट्रीय अवार्ड भी रेल मंत्री ने दिया था।
लेखन विद्या: गीत, ग़ज़ल, दोहा, कुण्डलिया छन्द, मुक्तक के अलावा गद्य में निबंध, रिपोर्ट, लघुकथा इत्यादि। तकनीकी विषय मे हिंदी में लेखन।

‘ दोस्ती पर दोहे ‘ के बारे में अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ blogapratim@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

अभी शेयर करे
WhatsAppFacebookTwitterGoogle+BufferPin It

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Add Comment