जिंदगी क्या है – जिंदगी पर कविता | Poems On Life In Hindi

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

Sandeep Kumar Singh

बस आप लोगों ने देख लिया जीवन धन्य हो गया। इसी तरह यहाँ पधारते रहिये और हमारा उत्साह बढ़ाते रहिय्रे। वैसे अभी तो मैं एक अध्यापक हूँ साथ ही इस अपने इस ब्लॉग क लिए लिखता हूँ। लेकिन मेरे लिए महत्वपूर्ण है आप लोगों के विचार। अपने विचार हम तक अवश्य पहुंचाएं। जिससे हम उन पर काम कर के आपकी उम्मीदों पर खरे उतर सकें। धन्यवाद।

You may also like...

34 Responses

  1. Priya says:

    Nice Story Of Lfy

  2. Raju Gupt says:

    Very….. nice…. poem….
    Thank you so much

  3. Ghanshyam meena says:

    आज पहली बार अकेला बैठे हुए सोच रहा था । कि यार ये जिंदगी क्या है? तो google पर डाल दिया तो पाया कि अपने जो कविता लिखी वो सही है

    • Mr. Genius says:

      धन्यवाद Ghanshyam Meena जी।
      जिंदगी को शब्दों का रूप देने में हम कामयाब हो गए। जब किसी रचना को सराहा जाता है तभी वह जीवंत मानी जाती है। आपका बहुत बहुत धन्यवाद।
      इसी तरह हमारे साथ जुड़े रहिये।

  4. sanjubhai says:

    Kya hai jindgi

  5. Banshidhar says:

    Nice one broh =b. Thumbs up

  6. munim says:

    Nice poem

  7. hanif says:

    Jindagi!!!!!!!

  8. अशु says:

    आपकी ये कविता इतनी अनमोल है कि शब्दकोष खाली हैं क्या कुछ अनमोल लिखूं………………

    • धन्यवाद अशु जी… एक लेखक के लिए इससे बड़ी तारीफ कुछ नहीं हो सकती…आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

  9. janardan Dixit says:

    wah kya bat hai… aap jaiso ko padana hi jindagi hai….

  10. Ankit says:

    Super…… Sir ji

  11. Roshan says:

    ये जिंदगी जीने का सही मायने बता ती है

  12. poonam says:

    Very nice

  13. Ranjan says:

    Very very nice

  14. rajan kumar says:

    Hame abhi pata chala Ki jindagi ek khuli kitab hai

    • Sandeep Kumar Singh says:

      जी सही कहा आपने, जिदगी एक ऐसी खुली किताब है जिसमे आप अपनी मेहनत की कलम से अपनी तकदीर लिख सक सकते हैं।

  15. Anup Bhardwaj says:

    सही कहा
    ।।जिंदगी एक खुली किताब है।।
    जो हवा के साथ साथ up down होती रहती है।

  16. Anup Bhardwaj says:

    जिंदगी एक खुली किताब है ।
    जिसको संभालना हमारे हाथों में है
    नही तो दीमक लग जाती है।

  17. Anup Bhardwaj says:

    आपने बहुत अच्छी कविता लिखी है जिसको पड़कर बहुत से लोगो का तरीका पता चल जायेग की ।
    *जिंदगी क्या है*

  18. soheel says:

    sir aap ki kavita ka jawab nahi ye kavita la jawab hai. sir

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *