जिंदगी क्या है – जिंदगी पर कविता | Hindi Poem On Zindagi

जिंदगी क्या है ? ( Zindagi Poetry In Hindi ) जी हाँ दोस्तों, हम सब के मन में ये बात कभी ना कभी जरुर आता है। खासतौर से तब जब हम किसी तरह की परेशानी में फसे हो,जब जीवन दुखदायी हो रही हो, कही से कोई उम्मीद की रौशनी दिखाई ना दे ऐसे समय में अक्सर हम इस सवाल का जवाब ढूंढने की कोशिश करते है, की आखरी ये जिंदगी है तो है क्या? बस ऐसे ही कुछ भावनाओ को कविता के रूप में उतार के मैंने २ कविताए लिखी है जो आपके सामने पेश है… जिंदगी क्या है कवितायें।

जिंदगी क्या है – जिंदगी पर कविता

जिंदगी क्या है

कविता 1. एक किताब है ज़िन्दगी

बनते बिगड़ते हालातों का
हिसाब है जिंदगी,
हर रोज एक नया पन्ना जुड़ता है जिसमें
वो ही एक किताब है जिंदगी।

हर पल एक नया किस्सा,
तैयार रहता है अपना अंत पाने को,
ग़मों के दौर में खुशियों की
राह 
तकते हैं कई लोग,
तड़पते हैं पेड़ और पंछी पतझड़ में
जैसे 
बसंत पाने को।

कभी कड़ी धूप सी परेशानियाँ
जलाती रहती हैं दर्द की एक आग सीने में,
कभी खुशियों में आनंद मिलता है तो
खुशबू आती है पसीने में,
मजबूरियों का सिलसिला
चलता रहता है सबकी राहों में,
बदल देते हैं वो शख्स कायनात अपनी
होती है जान हौसलों की जिनकी बाहों में।

छिपा कर रखती है कई राज अनजाने से
कहने को वो हिजाब है जिंदगी
हर रोज एक नया पन्ना जुड़ता है जिसमें
वो ही एक किताब है जिंदगी।

यादों की किताब – कविता पुरानी यादों की | Yaadon Ki Kitab


कविता- २. ज़िन्दगी का राज किसने पाया है

कभी धूप कभी छाया है
कभी सत्य कभी माया है
बीत रही इस जिंदगी का
राज़ किसने पाया है?

कभी आस कभी विश्वास है
खुशदिल है कभी उदास है ,
महफ़िलों में नजर नहीं आती है
तन्हाई में दुश्मन जैसे पास है,
कभी हंसाया है इसने
कभी जी भरकर रुलाया है,
बीत रही इस जिंदगी का
राज किसने पाया है?

किसी के लिए सरताज है जिंदगी
कभी दो वक़्त की रोटी की मोहताज है,
कोई रो-रो कर निकाल रहा है
किसी के लिए एक बिंदास अंदाज है जिंदगी
कोई ठोकरों से टूट गया है देखो
किसी ने दूसरों की जिंदगी को सजाया है
इस बीत रही जिंदगी का
राज किसने पाया है?

नफरत की आग लिए दिल में
जलते रहते हैं कई लोग
और कुछ
खुशियों की दवाई बाँट रहे हैं
मिटाने को ग़मों के रोग,
जिंदगी ने अपने रूप से हमें
इस तरह से मिलाया है,
इस बीत रही जिंदगी का
राज किसने पाया है?

जिंदगी पर शायरी – जिंदगी के अलग-अलग रंग बताती शायरियाँ


आपको ये कविता जिंदगी क्या है कैसे लगी? आपके क्या विचार है जिंदगी के बारे में? अपने विचार हमें कमेंट के माध्यम से जरुर बताये.. धन्यवाद ।

तबतक पढ़े ये ज़िन्दगी का फलसफा बताती ये कविता/लेख

[

अप्रतिमब्लॉग में नए रचनाओं को अपने इनबॉक्स में पाने के लिए हमारे न्यूज़ लेटर सब्सक्रिप्शन से जुड़िये।

67 Comments

  1. Avatar Anjali
  2. Avatar sunil
  3. Avatar Ghanshyam
  4. Avatar Shivani Rajput
  5. Avatar Santosh Kumar
  6. Avatar Shaklain mustak
  7. Avatar Pavan bharti
  8. Avatar यशवंत कुमार
  9. Avatar Nishipadma Nanda
  10. Avatar Rajesh Deshmukh
  11. Avatar गोतम चन्द दक
  12. Avatar Saqlain
  13. Avatar niraj kumar
  14. Avatar राजेश
  15. Avatar Kapil chaudhary
  16. Avatar Kapil chaudhary
  17. Avatar Ajay Tripathi
  18. Avatar soheel
  19. Avatar Anup Bhardwaj
  20. Avatar Anup Bhardwaj
  21. Avatar Anup Bhardwaj
  22. Avatar rajan kumar
    • Sandeep Kumar Singh Sandeep Kumar Singh
  23. Avatar Ranjan
  24. Avatar Roshan
  25. Avatar Ankit
  26. Avatar janardan Dixit
  27. Avatar अशु
  28. Avatar hanif
  29. Avatar Banshidhar
  30. Avatar sanjubhai
  31. Avatar Ghanshyam meena
  32. Avatar Raju Gupt
  33. Avatar Priya