समय पर कविता :- समय बड़ा बलवान | Samay Poem In Hindi

इस संसार में अगर कोई सबसे ज्यादा ताकतवर है तो वो है समय। समय जो किसी राजा को भी भिखारी बना देता है और किसी भिखारी को भी राजा। इसके खेल को कोई आज तक जान नहीं सका है। जो भी इसे जानने या समझने की कोशिश करता है वो ज्यादातर दुखी ही रहता है। समय के साथ चलने वाला और वर्तमान में इसके साथ रहने वाला ही सुखी रहता है। और क्या है समय की महिमा आइये पढ़ते हैं इस समय पर कविता में :-

समय पर कविता

समय पर कविता

समय बड़ा बलवान रे भाई
समय बड़ा बलवान।

बहती जाती नदिया जैसे
समय भी बहता जाता है
कोई फांके धूल जमीं की
कोई अर्शों पे छा जाता है,
जैसे होते कर्म हैं बनती
वैसी ही पहचान
समय बड़ा बलवान रे भाई
समय बड़ा बलवान।

कोई ऐसा बाँध नहीं जो
रोक सके यह धारा
एक बार जो गया समय
फिर आता नहीं दुबारा,
बहे जो इस धारा संग
बनता वही महान
समय बड़ा बलवान रे भाई
समय बड़ा बलवान।

इसके मन में क्या चलता
ये कोई न जाने राज़
किसी को देता शोहरत
किसी से छीने ताज़,
इसकी नज़र पड़े तो होता
निर्धन भी धनवान
समय बड़ा बलवान रे भाई
समय बड़ा बलवान।

न ही कोई रंग है इसका
न ही कोई जात
आफत किसी की खातिर
किसी की खातिर है सौगात,
भेदभाव है नहीं किसी से
सबको मिले समान
समय बड़ा बलवान रे भाई
समय बड़ा बलवान।

” समय पर कविता ” आपको कैसी लगी? अपने विचार कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखें।


पढ़िए समय से संबंधित ये बेहतरीन रचनाएं :-

धन्यवाद।

2 Comments

  1. Avatar ANANDAKRISHNAN
    • Sandeep Kumar Singh Sandeep Kumar Singh