शिक्षक दिवस पर कविता :- शिक्षक का महत्व व भूमिका बताती हिंदी बाल कविता

शिक्षक एक देश का निर्माता होता है। उसके कन्धों पर एक अच्छे समाज के सृजन का भार होता है। शिक्षक जिसे हम गुरु भी कहते हैं, भगवान् के सामान पूजनीय होता है। उसी के पढ़ाये पाठ के कारण ही हम अपने जीवन में सफल हो पाते हैं। इसी कारण शिक्षकों के सम्मान में पूरी दुनिय में शिक्षक दिवस मनाया जाता है। तो आइये पढ़ते हैं दुनिया भर के ऐसे ही शिक्षकों को समर्पित है हमारी ये शिक्षक दिवस पर कविता :-

शिक्षक दिवस पर कविता

शिक्षक दिवस पर कविता

दुनिया का भाग्य विधाता
हमारे जीवन का रक्षक है,
खुद को जला प्रकाश फैलाता
भगवान् समान वो शिक्षक है।

A B C D एक दो तीन
क ख ग घ हमें पढ़ाया है
संग हमारे रह कर उसने
हमको आगे बढ़ाया है,
आज सफल अगर हैं हम
उसका हम पर पूरा हक है
खुद को जला प्रकाश फैलाता
भगवान् समान वो शिक्षक है।



जीवन की राह सरल हो
ऐसा देता ज्ञान हमें
उसकी शिक्षा से ही तो मिलता
इस जग में सम्मान हमें,
बिन उसके बेकार है सब
जीना भी अपना निरर्थक है
खुद को जला प्रकाश फैलाता
भगवान् समान वो शिक्षक है।

माँ बन कर हमको पालते हैं
बन पिता वो हमको डाँटते हैं
अपने जीवन का अनुभव भी
वो संग हमारे बांटते हैं,
भला ही सोचे शिष्य का वो
इसमें भी न कोई शक है
खुद को जला प्रकाश फैलाता
भगवान् समान वो शिक्षक है।

लालच न रहे उसके मन में
कर्तव्य वो अपना निभाता है
पहुंचा दे सबको महलों में
खुद झोपड़ी में सो जाता है,
विद्यार्थी आगे बढ़े सदा
इस बात का बस वो इच्छुक है
खुद को जला प्रकाश फैलाता
भगवान् समान वो शिक्षक है।



इस तथ्य का हमको भान रहे
कि ऊँचा उसका मान रहे
जिसने हमको शिक्षा दी है
हम बन उसकी संतान रहें,
जब भी पड़ती कोई मुसीबत
वो बनता हमारा संरक्षक है
खुद को जला प्रकाश फैलाता
भगवान् समान वो शिक्षक है।

पढ़िए :- गुरु पर कविता ‘वही गुरु कहलाता है’

शिक्षक दिवस पर कविता आपको कैसी लगी? अपने विचार हम तक अवश्य पहुंचाएं। अपने जीवन में शिक्षक का महत्त्व बताने के लिए अपने शिक्षकों के साथ भी ये कविता शेयर करें।

धन्यवाद।

अभी शेयर करे
WhatsAppFacebookTwitterGoogle+BufferPin It

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Add Comment