रावण का परिवार :- रावण के पारिवारिक सदस्यों की जानकारी

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है।
रचना पसंद आये तो हमारे प्रोत्साहन के लिए कमेंट जरुर करें। हमारा प्रयास रहेगा कि हम ऐसी रचनाएँ आपके लिए आगे भी लाते रहें।

जैसा की आप सब जानते हैं कि विजयादशमी क्यों मनाई जाती है। जी हाँ, इस दिन राम जी ने रावण का संहार किया था। भगवान् राम को कौन नहीं जनता? सारा जग उनकी महिमा का गुणगान करता है। पर शायद ही कोई उस युद्ध में मारे गए रावण के और उसके परिवार के बारे में जनता हो। अगर नहीं जानते तो कोई बात नहीं। हम आपके लिए लायें हैं रावण के परिवार की जानकारी लेख ‘ रावण का परिवार ‘ में :-

रावण का परिवार

रावण का परिवार

रावण के नाम और उनके अर्थ

रावण के जन्म के समय उसके दस सिर थे इस कारण उसका नाम दशानन या दशग्रीव रखा गया था। जिसमें ‘ दश ‘ का अर्थ दस और ‘ आनन ‘ का अर्थ मुख है। लंका का राजा होने के कारण उसे लंकापति या लंकेश भी कहा जाता है। सबसे प्रसिद्द नाम रावण का अर्थ है दूसरों को रुलाने वाला या गर्जन। यह नाम भगवान् शंकर ने उन्हें दिया था।


पढ़िए :- ऋषि मार्कण्डेय जी की कहानी


रावण का जन्म स्थान

ऐसा माना जाता है की गौतम बुद्ध नगर जिले के अन्दर बिसरख नाम के गाँव में रावण का जन्म हुआ था। ऐसा भी माना जाता है की इस गाँव का नाम रावण के पिता विश्रवा के नाम पर पड़ा है। पहले इस गाँव का नाम विश्रवा ही था मगर समय के बदलते इसका नाम बदलकर बिसरख हो गया। यहाँ पर एक शिवलिंग है जिसकी रावण और उसके पिता विश्रवा पूजा किया करते थे। ये स्वयंभू शिवलिंग 100 साल पहले ही धरती से निकल गया। यह अष्टकोण के आकार में है।

यहाँ दशहरा नहीं मनाया जाता है। दशहरे के दिन यहाँ रावण की मृत्यु का मातम मनाया जाता है। रावण को समर्पित एक मंदिर यहाँ बनाया जा रहा है। जिसकी लागत 2 करोड़ रुपये है। इसमें 42 फुट लम्बा शिवलिंग होगा और 5..5 फुट का रावण का चित्र लगाया जाएगा।

रावण के पिता का नाम

विश्रवा :- विश्र्वा महान ऋषि पुलस्त्य के पुत्र थे। विश्र्वा का अर्थ है वेद ध्वनि सुनने वाला। उनकी दो पत्नियां थीं। एक का नाम देववर्णिनी था और एक का नाम कैकसी था।

रावण की माता का नाम

रावण की माता का नाम कैकसी था। कैकसी एक राक्षसी थी। कैकसी को केशिनी और निकषा के नाम से भी जानी जाती है। वह विश्रवा मुनि की दूसरी पत्नी थीं। कैकसी ने रावण जैसा पुत्र प्राप्त करने के लिए ही विश्रवा मुनि से विवाह किया था ताकि वो देवताओं को हरा कर राक्षस वंश को बढ़ा सके।

रावण के दादा और दादी का नाम

रावण के दादा ब्रह्मा के पुत्र महर्षि पुलस्त्य थे और दादी का नाम हविर्भुवा था।

रावण की नाना और नानी का नाम

रावण के नाना का नाम सुमाली और नानी का नाम केतुमती था।


पढ़िए :- नानी की तारीफ़ सुनाती एक बेहतरीन कविता


रावण के भाइयों और बहनों के नाम

रावण के भाई कुम्भकर्ण, विभीषण थे। खर और दूषण रावण के मौसी के पुत्र थे। रावण का एक सौतेला भाई कुबेर भी था। जो रावण की सौतेली माँ देववर्णिनी के पुत्र थे। उसकी दो बहनें भी थी जिनका नाम शूर्पणखा और कुम्भिनी था।

रावण की पत्नियों के नाम

मंदोदरी असुरों के राजा मायासुर और उसकी पत्नी अप्सरा हेमा की पुत्री थी। मंदोदरी के इलावा उसकी एक पत्नी ध्न्यमालिनी भी थी।

रावण के पुत्रों के नाम

ये सब पढ़ कर रावण के कितने पुत्र थे ये सवाल तो अपने आप मन में आ जात्रा है तो आइये जानते हैं रावण के पुत्रों के बारे में :- रावण के त्रिशिरा, इन्द्रजीत और अक्षयकुमार पुत्र हुए हैं। मेघनाद ही इन्द्रजीत था। उसका ये नाम इंद्र को युद्ध में जीत लेने के कारण पड़ा। अतिकाय उसकी दूसरी पत्नी ध्न्यमालिनी का पुत्र था।

रावण का निवास स्थान

लंकापुरी, जोकि विश्वकर्मा जी ने राक्षसों के लिए बनायीं थी। विष्णु जी के डर से सारे राक्षस वह लंका छोड़ के चले गए। बाद में विश्र्वा जी ने कुबेर जी को दे दी। बाद में रावण ने कुबेर से यह लंका छीन ली और कुबेर को वहां से निकाल दिया। बाद में रावण ने इस पास अपना आधिपत्य स्थापित कर लिया।

पढ़िए क्यों हुआ रावण का जन्म – रावण के पूर्वजन्मों का इतिहास और जानिए रावण से जुड़ी हर जानकारी और रावण के संपूर्ण इतिहास के बारे में।

ये था रावण का परिवार । हम आशा करते हैं कि आपको यह रचना अवश्य पसंद आई होगी।  अपने बहुमूल्य विचार कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखें।

पढ़िए अप्रतिम ब्लॉग पर इन पौराणिक पात्रों का जीवन परिचय :-


धन्यवाद।

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email

57 thoughts on “रावण का परिवार :- रावण के पारिवारिक सदस्यों की जानकारी”

  1. Avatar
    Mahesh prajapati

    रावण को राक्षस कुल का कहा जायेगा या व्राह्मण कुल का

    1. Sandeep Kumar Singh
      Sandeep Kumar Singh

      कुल पिता से होता है तो रावन को ब्राह्मण ही माना जाएगा मेरे हिसाब से…

  2. Avatar
    Dharmendra kumar dharm

    Kuber ,ravan ka shautela bhai tha ye kis granth men likha hai ? Shautela bhai tha ya chachera bhai tha batane ki kripa prdan ki jay.book ka naam bhi bataben..

    1. Sandeep Kumar Singh
      Sandeep Kumar Singh

      वाल्मीकि कृत रामायण पढ़िए उसमें सब लिखा है।

  3. Avatar

    संदीप जी आप ने ऋषि विश्रवा की एक पत्नी का नाम देववर्णिनी बताया है जब कि कही कहीं पुण्योतकटा बताया जाता है ।क्या ये दोनों नाम एक ही स्त्री के थे? वैसे आपकी बाकी जानकारी अत्यंत रोचक व तथ्यपूर्ण है।🙏.

  4. Avatar
    Chandegra Vaishali

    Brahamaji ka vansh prajapati tha….aur ravan braman tha….ye kya confusion hai ??????
    Aur ha ye bhi ki braham ji prajapati hai…ye koy cast ke liye hai ya sirf nunko diya gya sanman hai…????

  5. Avatar

    Very nice story thanks alot bhaiya mere is story ke karan third prize aya story writing competition me so thanku very much

  6. Avatar
    रावण का परिवार संदर्भ।

    संदीप जी यह तो लगभग सभी लोग जानते थे कि शूर्पणखा रावण की बहन थी, परन्तु आपने हमें यह नयी जानकारी दी कि
    कुम्भिणी भी रावण की दूसरी बहन थी। इसके अलावे आप ने
    ओर बहुत सी नयी नयी जानकारियों से अवगत कराया ईसके
    लिये बहुत बहुत धन्यावाद जी। शिवबालक राय पटना बिहार।

    1. Sandeep Kumar Singh
      Sandeep Kumar Singh

      Veenesh जी अगर हमें इस बारे में कोई भी जानकारी मिलती है तो उसे अपने पाठकों के साथ जरूर साझा करेंगे….

  7. Avatar
    Anand Kumar Soni

    Bhai sahb ravan K पित्ता जी का नाम किस पुस्तक मे लिखा हुआ ह क्या आप हमे बतायेगे

    1. Sandeep Kumar Singh
      Sandeep Kumar Singh

      जी बिलकुल महर्षि वाल्मीकि कृत रामायण पढ़िए आपको मिल जाएगा नाम हमने भी वहीं से देखा है….

  8. Avatar
    उगमाराम कुमावत

    बहुत बहुत धन्यवाद जी.दो दिन पहले ही रावण के दादा के बारे पता करना था.सो आपके ब्लॉग से यह जानकारी हुई.

  9. Avatar

    आपने लिखा कि रावण जे जन्म के समय 10 सिर थे
    ओर हमारे ज्ञान के हिसाब से रावण को ब्रह्मा जी की तपस्या से वरदान में10 सिर मिले तो जन्म के कैसे हुवे

    1. Sandeep Kumar Singh
      Sandeep Kumar Singh

      जी ये जानकारी रामायण से ली गयी है। आशा करते हैं आप भी पढ़ लेंगे।

  10. Avatar
    पंकज भट्ट

    बहुत बहुत धन्यवाद , और जानकारी पाकर अति प्रसन्नता हुई
    भट्ट जी आपको प्रणाम करते हैं , संदीप कुमार सिंह जी

  11. Avatar

    अहिरावण रावण का भाई था या मित्र कोई बताता है मित्र था आप बता रहे है भाई था सही क्या है

    1. Sandeep Kumar Singh
      Sandeep Kumar Singh

      राज जी वाल्मीकि द्वारा रचित रामायण के अनुसार अहिरावण रावण का भाई था।

  12. Avatar
    RUDRA KUMAR THAKUR

    Sandeep Singh ji, aapki rachna wakai behad rochak tathyon se bharpur hai. Aur sath hi aapane jo citation diya hai isse yakin bhi karna aasan ho jata hai.

    Haan, apne jo dusron ke dwara copy kar lene ki bat kahi hai to mai aapse ek request karna chahunga ki aap kripya apne website ko copyright karwa lijiye.
    Namaskar.

  13. Avatar

    बहुत अच्छी जानकारी है। इस तरह की जानकारी हमे होना ही चाहिए। अवध्य ही पाठकों को लाभ मिलेगा।

    1. Sandeep Kumar Singh

      सुरेश प्रसाद जी इसके लिए आप हमारे ब्लॉग पर रावण का इतिहास पढ़ें। उसमे सम्पूर्ण जानकारी देने का प्रयास किया गया है।

  14. Avatar

    रावण की पुत्री का कोई भी वर्णन नहीं है जी हम जाना चाहते हैं कि रावण की पुत्री भी थी कि नहीं

    1. Sandeep Kumar Singh

      मेरे ज्ञान के अनुसार रावण की कोई पुत्री नहीं थी। इसके अलावा सबके अपने-अपने तथ्य हैं।

  15. Avatar
    बलवीर सैन

    रावण के बारे में जानकारी दी इसके लिए आपका धन्यवाद

    1. Sandeep Kumar Singh
      Sandeep Kumar Singh

      हमें भी अच्छा लगा कि आपको यह जानकारी अच्छी लगी। अधिक जानकारी ले लिए इसी तरह हमारे साथ बने रहें। धन्यवाद।

    1. Sandeep Kumar Singh
      Sandeep Kumar Singh

      आपका भी बहुत बहुत धन्यवाद सोनी जी पढ़ने के लिए। ☺

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *