नदी पर छोटी कविता :- आगे बढ़ना ही जीवन है प्रेरणादायक कविता

आगे बढ़ते रहने का ही नाम जीवन है। यूँ तो हमारे आस-पास कई ऐसी चीजें हैं जो हमें आगे बढ़ने की प्रेरणा देते रहते हैं। मगर मैं यहाँ पर बात करने वाला हूँ नदी की। जी हाँ, नदी हमारे लिए एक बहुत ही बड़ी प्रेरणास्त्रोत है। इसी बात को हमें बताने की कोशिश की है नदी पर छोटी सी कविता में तो आइये पढ़ते है नदी से प्रेरित नदी पर छोटी कविता :-

नदी पर छोटी कवितानदी पर छोटी कविता

बूँद-बूँद संगृहीत कर अपना
वजूद ये बड़ा बनाती है,
आगे बढ़ना ही जीवन है
नदिया ये हमें सिखाती है।

जब चलना आरम्भ ये करती
अस्तित्व बहुत छोटा होता
राह भी दुर्गम होते हैं और
चलना भी दूभर होता,
हार न फिर भी मानती है
बस आगे बढती जाती है
आगे बढ़ना ही जीवन है
नदिया ये हमें सिखाती है।

राह में अगर रुकावट पड़ती
डट कर यह है उस से लड़ती
बह जाती यह खोद सुरंग
या पर्वत के ऊपर जा चढ़ती,
ताकतवर गर हो जो मुसीबत
तो हमें अपनी हिम्मत बढानी है
आगे बढ़ना ही जीवन है
नदिया ये हमें सिखाती है।

कैसे भी हों हालात धरा पर
ये निर्मल सी बहती है
हर पल बस ये कल-कल कर
मधुर संगीत सुनती रहती है,
मत संयम खोना जो कभी भी
विपदा कोई जो आती है
आगे बढ़ना ही जीवन है
नदिया ये हमें सिखाती है।

कितना भी लम्बा होता हो सफ़र
ये मगर कभी न थकती है
ऐसा कोई मोड़ नहीं है
यह जहाँ पर जाकर रूकती है,
अंत में जाकर सागर की
गोद में यह समाती है
आगे बढ़ना ही जीवन है
नदिया ये हमें सिखाती है।

जीवन है जब तक अपना
तब तक सफ़र ख़तम न होता है
मंजिल जिसको प्यारी होती
वो न कभी चैन से सोता है,
सागर से बन कर वाष्प ये नदिया
फिर इसी धरा पर आती है
आगे बढ़ना ही जीवन है
नदिया ये हमें सिखाती है।

पढ़िए :- सफलता पर प्रेरणादायक कविता

आशा करते हैं आपको नदी पर छोटी कविता जरूर पसंद आई होगी। इस कविता से सम्बंधित अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

2 Responses

  1. sharad koparkar कहते हैं:

    सचमुच कया खुब लिखा है आपने…

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।