मेले पर कविता :- जब जब भी है आता मेला | मेला बाल कविता

मेले पर कविता में पढ़िए मेले के दृश्यों का वर्णन और मेले का उद्देश्य। मेला ही एक ऐसा अवसर होता है जब मनुष्य बहुत कम पैसों में या बिना पैसों के भी मेले की रौनक देख अपना दिल बहला लेता है। क्या-क्या और होता है मेले में आइये जानते हैं इस मेले पर कविता के जरिये :-

मेले पर कविता

मेले पर कविता

जब जब भी है आता मेला
हमको खूब लुभाता मेला,
इसे देख मन खुश हो जाता
नई उमंगें लाता मेला।

मेले में सजती दूकानें
सर्कस दिखता तम्बू ताने,
मेले में मिलते हैं हमको
लोग कई जाने अनजाने।

दृश्य कई भाते मेले में
चीज कई खाते मेले में,
झुंड बना ग्रामीण लोग तो
गीत कई गाते मेले में।

मेले में हैं चकरी झूले
बच्चे फिरते फूले – फूले,
रंग – बिरंगी इस दुनिया में
आ सब अपने दुःख को भूले।

मेले की है बात निराली
तिल रखने को जगह न खाली,
लगता जैसे मना रहे हैं
लोग यहाँ आकर दीवाली।

मेलों से अपनापन बढ़ता
रंग प्रेम का मन पर चढ़ता,
मानव सामाजिक होने का
पाठ इन्हीं मेलों से पढ़ता।

जब जब भी है आता मेला
हमको खूब लुभाता मेला,
इसे देख मन खुश हो जाता
नई उमंगें लाता मेला।

पढ़िए :- बचपन के दिनों पर कविता “बचपन की यादें”


‘ मेले पर कविता ‘ के बारे में अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ blogapratim@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

धन्यवाद।

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Add Comment