ढल चुका है सूरज हो चली है शाम धीरे-धीरे | हिंदी कविता Hindi Poem

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है।
रचना पसंद आये तो हमारे प्रोत्साहन के लिए कमेंट जरुर करें। हमारा प्रयास रहेगा कि हम ऐसी रचनाएँ आपके लिए आगे भी लाते रहें।

ढल चुका है सूरज हो चली है शाम धीरे-धीरे

ढल चुका है सूरज

ढल चुका है सूरज, पंछी हैं घर चले
इक मैं रुका शहर में, अकेला दिन ढले,
कर इंतजार खत्म कि हो चली है
शाम धीरे-धीरे।

खत भी लिखे थे मैंने संदेश भी थे भेजे,
पवन संग बरसने को मेघ भी थे भेजे,
न जाने कब मिलेगा भेजा है जो तूने
पैगाम धीरे-धीरे।

महफ़िलें सजेंगी तो राज सब खुलेंगे,
सच्चाइयों के आईनों को तब हम धुलेंगे,
सुना है हो रहा है आशियाने में तेरे
इंतजाम धीरे-धीरे।

तब दौर वो चलेगा जो न सोचा होगा तुमने,
तब हम बताएंगे कि क्या देखा है जी हमने,
चलती रहेंगी बातें और चलते रहेंगे
जाम धीरे-धीरे।

सुनकर दलीलें मेरी तू मुख न फेर लेना,
जो दिल तेरा करेगा तू फैसला वो देना,
हम भी देखेंगे क्या होता है इस महफ़िल का
अंजाम धीरे-धीरे।

ढल चुका है सूरज, पंछी हैं घर चले
इक मैं रुका शहर में, अकेला दिन ढले,
कर इंतजार खत्म कि हो चली है
शाम धीरे-धीरे।

शरद की खुबसूरत सुबह | सुबह की खूबसूरती पर एक कविता

अगर ये कविता आपको पसंद आई तो कृपया शेयर जरूर करें। 
पढ़िए ये हिंदी कविताएँ – 


धन्यवाद।

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *