छोटे भाई पर कविता :- राम को जैसे मिले थे लक्ष्मण | भाई भाई के लिए कविता

इस कविता के भाव वही पाठक समझ सकते हैं जिनका कोई छोटा भाई है। छोटा होने की वजह से वो सबका लाडला तो होता ही है साथ ही शैतान भी बहुत होता है। घर मे सबसे ज्यादा प्यार उसी पर लुटाया जाता है। उसके घर में रहने से एक अलग ही रौनक रहती है और जब वह कहीं बाहर जाता है तो घर मने एक ख़ामोशी सी छा जाती हैै। बाकी क्या-क्या होता है छोटे भाई में आइए पढ़ते हैं छोटे भाई पर कविता में :-

छोटे भाई पर कविता

छोटे भाई पर कविता

राम को जैसे मिले थे लक्ष्मण
बलराम को कृष्ण कन्हाई,
ऐसे ही इस जनम में मुझको
मिला है मेरा प्यारा भाई,

घर में उस से ही रौनक रहती
हरकत करता है बचकानी,
उम्र बढ़ रही है फिर भी
अब तक करता है शैतानी,

न चिंता माथे पर रहती
न होठों पर खामोशी,
ऐसा कोई काम न करता
जिस से हो कभी नमोशी,

जितना वो लड़ता है मुझसे
उतना ही प्यार जताता है,
चेहरे पर देख कर उलझन वो
झट उसको दूर भगाता है,

उम्र भले छोटी है मुझसे
पर बातें करता सयानी है,
हर घटना को ऐसे बताता
जैसे कोई कहानी है,

कितना भी डराऊँ उसको मैं
वो कभी न मुझसे डरता है,
मेरी हर एक बात में वो
मेरे लिए हामी भरता है,

कैसे बयां करूँ मैं कैसी
किस्मत है मैंने पायी,
भगवान सरीखे माँ-बाप हैं मेरे
फरिश्ते जैसा भाई,

राम को जैसे मिले थे लक्ष्मण
बलराम को कृष्ण कन्हाई,
ऐसे ही इस जनम में मुझको
मिला है मेरा प्यारा भाई।

छोटे भाई पर कविता हिंदी कविता:-

पढ़िए :-रक्षाबंधन पर भाई और बहन की शायरी

यह कविता आपको कैसी लगी? अपने विचार कमेंट बॉक्स के माध्यम से हम तक अवश्य पहुंचाएं। यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हामरे ब्लॉग के जरिये लोगन तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ blogapratim@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

धन्यवाद।

अभी शेयर करे
WhatsAppFacebookTwitterGoogle+BufferPin It

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

4 Comments

  1. Avatar Rajeev Kumar
  2. Avatar Hariom Prajapat

Add Comment