जोश भरी कविता :- हद से आगे जाना होगा | Josh Bhari Kavita

एक इंसान अपने जीवन में कुछ भी कर सकता है। और यह तभी संभव होता है जब उसे वह काम करने की कहीं से प्रेरणा मिलती है। जिस से उसके अंदर लक्ष्य प्राप्ति के लिए एक जोश पैदा होता है। इसी सन्दर्भ में हम आपके लिए लेकर आये हैं यह प्रेरणादायक जोश भरी कविता :-

जोश भरी कविता

जोश भरी कविता

बातों से न बात बनेगी
करके कुछ दिखलाना होगा,
गर सपनों को पाना है तो
हद से आगे जाना होगा।

सूर्य से पहले उठना होगा
अपने कार्य में जुटना होगा
निश्चित ही पाएँगे सफलता
हर मंजिल को झुकना होगा,
जिसकी आज कल्पना करते
उसी समय को लाना होगा
गर सपनों को पाना है तो
हद से आगे जाना होगा।

हमको खुद से लड़ना होगा
खुद ही खुद को पढ़ना होगा
कमी दूर कर अपनी सारी
हमको आगे बढ़ना होगा,
हिम्मत कर हमको आज ही
पहला कदम बढ़ाना होगा
गर सपनों को पाना है तो
हद से आगे जाना होगा।

अहंकार को त्यागना होगा
लोभ-मोह से भागना होगा
जब सफ़र ख़तम न हो
तब तक हमें जागना होगा,
मेहनत से अपनी हमको
नया मुकाम बनाना होगा
गर सपनों को पाना है तो
हद से आगे जाना होगा।

बातों से न बात बनेगी
करके कुछ दिखलाना होगा,
गर सपनों को पाना है तो
हद से आगे जाना होगा।

इस प्रेरणादायक कविता का विडियो यहाँ देखें :-

जोश भरी कविता ( हद से आगे जाना होगा ) | Josh Bhari Kavita | Utsah Kavita | उत्साह बढ़ाने वाली कविता

अप्रतिम ब्लॉग की यह ” प्रेरणादायक जोश भरी कविता ” आपको कैसी लगी? आप अपने अनमोल विचार कमेंट बॉक्स द्वारा हमें जरूर बताएं।

पढ़िए अप्रतिम ब्लॉग की ये बेहतरीन प्रेरणादायक कहानियाँ :-

धन्यवाद।

Add Comment

आधुनिक महापुरुषों के गुरु कौन थे?