छठ पूजा पर कविता :- जय हो छठ मैय्या | Chhath Puja Par Kavita

भारत में कार्तिक शुक्ल पक्ष की षष्ठी को मनाया जाने वाले एक हिन्दू पर्व छठ को समर्पित छठ पूजा पर कविता ( Chhath Puja Poem In Hindi )  :-

छठ पूजा पर कविता

छठ पूजा पर कविता

खड़े है सब घाटों में,
हैं सूप लिए हाथों में,
लगा रहे जयकारे,
जय हो छठ मैय्या ।

सूप भरे ठेकुआ से,
सेब नारंगी केला से,
खड़े नारियल लेके,
जय हो छठ मैय्या ।

डाभ सिंघाड़ा व गन्ना,
सुथनी व पनियाला,
लुप्त नहीं होने देंगे,
जय हो छठ मैय्या ।

उगते और डूबते,
सूर्य को हम पूजते,
एक तुम्हीं रोज दिखे,
जय हो छठ मैय्या ।

मिला-जुला परिवार,
बुजुर्गों के संग प्यार,
तुम ही हो सिखलाती,
जय हो छठ मैय्या ।

जो परदेस गये हैं,
अपनों से बिछुड़े हैं,
तुम ही हो मिलवाती,
जय हो छठ मैय्या ।

सूप बनाने वालों को,
दीया बनाने वालों को,
पर्व जो सबको जोड़े,
जय हो छठ मैय्या ।

मनोकामना पूर्ण हो,
दूर सभी के विघ्न हो,
मंगल करने वाली,
जय हो छठ मैय्या ।

पढ़िए :- ईश्वर भक्ति पर कविता ‘प्रभु हमको दो ऐसा ज्ञान’


विनय कुमारयह रचना हमें भेजी है आदरणीय विनय कुमार जी ने जो की अभी रेलवे में कनिष्ठ व्याख्याता के रूप में कार्यरत हैं।
रचनाएं व अवार्ड: इनकी रचनाएं देश के 50 से अधिक पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित हो चुकी है। जिस के फलस्वरूप आप कई बार सम्मानित हो चुके हैं। गत वर्ष 2018 का रेलमंत्री राष्ट्रीय अवार्ड भी रेल मंत्री ने दिया था।
लेखन विद्या: गीत, ग़ज़ल, दोहा, कुण्डलिया छन्द, मुक्तक के अलावा गद्य में निबंध, रिपोर्ट, लघुकथा इत्यादि। तकनीकी विषय मे हिंदी में लेखन।

‘ छठ पूजा पर कविता ‘ ( Chhath Puja Poem In Hindi )  के बारे में अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

धन्यवाद।

Add Comment

आधुनिक महापुरुषों के गुरु कौन थे?