नारी शोषण पर कविता :- कैसे धीरज धर लूं मैं | Nari Shoshan Par Kavita

नारी पर बढ़ रहे अत्याचार से चिंतित सच्चे मर्द के दिल का हाल शब्दों में बयान करती नारी शोषण पर कविता :- कैसे धीरज धर लूं मैं

नारी शोषण पर कविता

नारी शोषण पर कविता

मुट्ठी में स्वप्नि आकाश लिए
बेटी तो पैदा कर लूं मैं,
हर एक मर्द से हारी हूँ
कैसे धीरज धर लूं मैं।

कुछ कोख में मारी जाती है
कुछ जन्मोपरांत मर जाती है
जब रखा जाता है अशिक्षित
जीवन भर सताई जाती है,

कुछ दहेज प्रथा से मर जाती
कुछ जिंदा जला दी जाती है
कुछ तीन तलाक के कहर
तले, खूनी आँसू बहाती है

कुछ नामर्दों के एसिड से
चेहरे की आब गंवाती है
घुट-घुट कर जीवन जी कर
आखिर अबला बन जाती है

मर्दो की नपुंसकता देखो
बलात्कारी बन कहर ढहाते है
अपमानित कर नारी जाती को
जला जिंदा मार जाते है

नहीं सुरक्षित इस कलयुग में
नारी का अस्तित्व यहाँ
अब मन करता खोल कोख
बेटी को अंदर कर लूं मैं

हर एक मर्द से हारी हूँ
कैसे धीरज धर लूं मैं।

मुट्ठी में स्वप्नि आकाश लिए
बेटी तो पैदा कर लूं मैं,
हर एक मर्द से हारी हूँ
कैसे धीरज धर लूं मैं।

पढ़िए :- महिला दिवस को समर्पित “नारी शक्ति पर दोहे”


प्रवीणमेरा नाम प्रवीण हैं। मैं हैदराबाद में रहता हूँ। मुझे बचपन से ही लिखने का शौक है ,मैं अपनी माँ की याद में अक्सर कुछ ना कुछ लिखता रहता हूँ ,मैं चाहूंगा कि मेरी रचनाएं सभी पाठकों के लिए प्रेरणा का स्रोत बनें।

‘ नारी शोषण पर कविता ’ के बारे में अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ blogapratim@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

धन्यवाद।

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Add Comment