वसंत ऋतु की सुबह पर कविता :- वसंत की खूबसूरती का वर्णन करती कविता

ऋतु रानी वसंत, सबका मनपसंद मौसम। वो मौसम जब चारों ओर हरियाली रहती है और रंग-बिरंगे फूल खिलते हैं। बसंत के मौसम की हर सुबह देखने लायक होती है। और अगर बात वसंत की पहली सुबह की हो तो बात ही क्या। आइये ऐसी ही वसंत की सुबह का मधुरमय वर्णन पढ़ते हैं वसंत ऋतु की सुबह पर कविता में :-

वसंत ऋतु की सुबह पर कविता

वसंत ऋतु की सुबह पर कविता

सूरज की पहली किरण देखो धरती पे आई,
उठो चलो अंगड़ाई लो सुबह हो गयी भाई,
देखो देखो बगिया में कलि खिलने को आई.
चारों तरफ सुन्दरता की लाली सी छाई,

बागों में है फूल खिले, पेड़ो पर हरियाली छाई,
कितना सुन्दर मौसम है, लो फिर से है वसंत आई,
ठंडी-ठंडी हवा चल रही, कोमलता सी लायी,
गलियों में चौराहों में, फूलों की खुशबू छाई,

हम भी मिल कर जरा, वसंत का गीत गायें
आओ इन बहारों संग घुल-मिल सा जाएँ,
इस मौसम में आकर देखो सब दूरी है मिटाई
झूमो नाचो और गाओ, खाओ खिलाओ जरा मिठाई,

चहकते हुए पक्षियों ने स्वागत में तान लगायी,
वाह! क्या नजारा है, दिल में ख़ुशी सी छाई,
वसंत के प्यारे इस दिन में जीवन में खुशिया आयीं
हर गम दुःख भुलाकर हंस लो थोड़ा भाई,

हर तरफ खुशनुमा आनंद सा छाया है,
रातों की काली स्याही ये सूरज छांट आया है,
सूरज के आ जाने से, उम्मदी की किरण है पायी.
उठो चलो अंगड़ाई लो, सुबह हो गयी भाई,

कुदरत का ये खेल भी ना जाने क्या कह जाता है
हर पल हर समय, अहसास नया सा दे जाता है,
आसमा की झोली से, अरमान नया सा लाया है
आज ही हमें पता चला, जिंदगी ने खुलकर गाया है,

बहारों की इस उमंग से, सब में मस्ती सी आई,
उठो चलो अंगड़ाई लो सुबह हो गयी भाई।

पढ़िए :- बसंत के आने पर बेहतरीन कवितायें


angeshwar baisवसंत ऋतु की सुबह पर कविता को हमें भेजा है अंगेश्वर बैस जी ने जो छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में रहते है। अंगेश्वर बैस जी कविता और गीत लिखने के शौक़ीन है। हमारे ब्लॉग में ये उनकी तीसरी कविता है और आगे भी हमारे पाठकों को उनकी कुछ बेहतरीन कविताएँ इस ब्लॉग में पढने को मिल सकती है।

अगर आपको ये कविता ‘ वसंत ऋतु की सुबह पर कविता ‘ पसंद आयी, तो इसे शेयर करना ना भूलें और अगर आप भी रखते हैं लिखने का हुनर तो लिख भेजिए अपनी रचनाएं हमें [email protected] पर या हमें संपर्क करे whatsapp +917973127032 में। दिखाएँ अपना हुनर पूरी दुनिया को।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

You may also like...

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।