वसंत ऋतु पर कविता :- आयो वसंत | बसंत ऋतु पर छोटी कविता

वसंत ऋतु पर कविता में पढ़िए चारों ओर हरियाली और बहार के दृश्य का वर्णन। कैसे बसंत में जहाँ एक ओर पेड़-पौधे हरे-भरे होते हैं वहीं कई खेत सरसों के कारन पीले-पीले नज़र आते हैं। उनके पास से गुजरने पर एक भीनी-भीनी खुशबू मन को आनंदित कर देती है। आइये पढ़ते हैं ऐसे ही वातावरण को प्रस्तुत करती वसंत ऋतु पर कविता :-

वसंत ऋतु पर कविता

वसंत ऋतु पर कविता

कोयल  कूक   रही  बागों में,  नाचे    झींगुर  मोर।

ऋतुओं  का  राजा आया  है,  सभी   मचायें  शोर।।

कण  कण में  मस्ती छाई है,  आया  है   मधुमास।

बौराया   लगे   मस्त  महीन, कहते  फागुनी  मास।।

 

पीले   पीले  पुष्प  खिले  है,   पीली   सरसों  गात।

मदमाते    मकरंद  भरे   से,  दिखता  है  हर  पात।।

तरुणाई   छाई   पुष्पों   पर,  मदमाता    है    भृंग।

हरी   भरी   रंगीन    छटाये,  रंग   भरा   हो   श्रृंग।।

 

नैना   दिखते   मदमाते   से,   मतवाला   है   प्रीत।

हर  मन  में  उत्साह  भरा  है,  गली  गली  में गीत।।

फागुन  हँसता  झूम  रहा  है,  लगा  रहा  है  आग।

नर  नारी  सब  सुध  बुध  खोये, खेल  रहे हैं फाग।।

 

मस्त    मगन    पौधे   लहराये,   छेड़   रहे  संबाद।

कोयल  कूक  रही  बागों  में, मिटे  हृदय  अवसाद।।

मधुर मधुर मधुपों का गुंजन,खिला खिला आकाश।

इन्द्रधनुष  सा  नभ  पर छाया, माधव बना प्रकाश।।

 

वाग्देवी   वाणी  वाचा  माँ,  नमन  करो  स्वीकार।

चरणों  का  मो  दास बनाकर, कर मो पे उपकार।।

मंत्र    तंत्र    माँ  नहीं   जानते, भरदो उर में ज्ञान।

कपट  द्वेष  ईर्ष्या   छोड़े  हम, माँ  तेरा  ही ध्यान।।

पढ़िए :- बसंत ऋतु पर कविता “माँ सरस्वती वंदना”


पंडित संजीव शुक्ल यह कविता हमें भेजी है पं. संजीव शुक्ल “सचिन” जी  ने। आपका जन्म गांधीजी के प्रथम आंदोलन की भूमि बिहार के पश्चिमी चंपारण जिले के मुसहरवा(मंशानगर ग्राम) में 07 जनवरी 1976 को हुआ था | आपके पिता आदरणीय विनोद शुक्ला जी हैं और माता आदरणीया कुसुमलता देवी जी हैं जिन्होंने स्वत: आपको प्रारंभिक शिक्षा प्रदान किए| आपने अपनी शिक्षा एम.ए.(संस्कृत) तक ग्रहण किया है | आप वर्तमान में अपनी जीविकोपार्जन के लिए दिल्ली में एक प्राईवेट लिमिटेड कंपनी में प्रोडक्शन सुपरवाईजर के पद पर कार्यरत हैं| आप पिछले छ: वर्षों से साहित्य सेवा में तल्लीन हैं और अब तक विभिन्न छंदों के साथ-साथ गीत,ग़ज़ल,मुक्तक,घनाक्षरी जैसी कई विधाओं में अपनी भावनाओं को रचनाओं के रूप में उकेर चुके हैं | अब तक आपकी कई रचनाएं भी विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में छपने के साथ-साथ आपकी  “कुसुमलता साहित्य संग्रह” नामक पुस्तक छप चुकी है |

आप हमेशा से ही समाज की कुरूतियों,बुराईयों,भ्रष्टाचार जैसे मुद्दों पर कलम चलाते रहे हैं|

‘ वसंत ऋतु पर कविता ‘ के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ blogapratim@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

You may also like...

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।