स्वच्छ भारत अभियान स्लोगन व नारे | Swachh Bharat Abhiyan Slogans

02 अक्टूबर 2014 को महात्मा गाँधी के जन्म दिवस पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने स्वच्छ भारत अभियान कि शुरुआत की जिसका उद्देश्य गलियों, सड़कों तथा अधोसंरचना को साफ-सुथरा करना है। महात्मा गांधी ने अपने आसपास के लोगों को स्वच्छता बनाए रखने संबंधी शिक्षा प्रदान कर राष्ट्र को एक उत्कृष्ट संदेश दिया था। तो आइये उनके सपने को पूरा करने में हम सब अपना योगदान जरुर डालें। उसी दिशा में लोगों को प्रेरित करने के लिए हम लायें हैं स्वच्छ भारत अभियान स्लोगन व नारे :-

स्वच्छ भारत अभियान स्लोगन व नारे

स्वच्छ भारत अभियान स्लोगन व नारे

1. सफाई को अपनाना है, भारत स्वच्छ बनाना है।

2. जन-जन तक ये पहुंचे ज्ञान, स्वच्छ भारत हो अपनी पहचान।

3. साफ-सफाई रखना बोझ नहीं, कर्त्तव्य है।

4. बिमारियों को दूर भगाएं, स्वच्छता को अपनाएं।

5. स्वच्छ वातावरण ही स्वच्छ मानसिकता को जन्म देता है।

6. अपनाओ भारत स्वच्छता अभियान, बढ़ेगा देश का गौरव और बढ़ेगी शान।

7.  एक काम सब लोग करें, कूड़ेदान का प्रयोग करें।

8. कदम से कदम मिलाते चलो, भारत स्वच्छ बनाते चलो।

9. बदलेंगे हम देश का हाल, स्वच्छता को बनाएँगे एक मिसाल।

10. हरियाली हम फैलाएँगे, भरत स्वच्छ बनाएँगे।

11. अब न हो बीमारी का वार, उठाओ स्वच्छता का हथियार।

12. स्वच्छ भारत अभियान, देश को बनाएगा महान।

13. उन सबको बधाई है, जिनके घर सफाई है।

14. मिल कर हम सब कसम ये खाएं, अपने देश को स्वच्छ बनायें।

15. अपने देश का करो सम्मान, अपनाओ स्वच्छ भारत अभियान।

16. आलस्य को भगाओ भीतर से, सफाई शुरू करो अपने घर से।

17.  अपने आस-पास साफ़-सफाई रखें, देश अपने-आप साफ़ हो जाएगा।

18.  पूरा गाँधी जी का सपना हो, स्वच्छ भारत अपना हो।

19.  रीत नयी चलाते हैं, साफ़-सफाई अपनाते हैं।

20.  हर दिल की अब ये चाहत हो, साफ़-सुथरा अपना भारत हो।

21. बीमारियाँ हमें भगानी हैं, स्वच्छता हमें अपनानी है।

पाठकों से निवेदन है की ये स्लोगन फेसबुक, ट्विटर, गूगल प्लस, व्हाट्सएप्प और अन्य सोशल साइट्स पर जहाँ भी हो ज्यादा से ज्यादा शेयर करे, और समाज को एक कदम सुधार की ओर बढ़ने में मदद करें। 

धन्यवाद।

सामाजिक तथ्यों पर आधारित और लेख यहाँ पढ़ें :-

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

10 Responses

  1. HindIndia कहते हैं:

    बहुत ही बढ़िया आर्टिकल है … Thanks for this article!! 🙂 🙂

  2. Rakesh/AchhiAdvice कहते हैं:

    बढीया पोस्ट संदीप

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *