एकतरफा मोहब्बत :- पहली मोहब्बत के अनकहे जज़्बात कविता

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है।
रचना पसंद आये तो हमारे प्रोत्साहन के लिए कमेंट जरुर करें। हमारा प्रयास रहेगा कि हम ऐसी रचनाएँ आपके लिए आगे भी लाते रहें।

जिंदगी बड़ी अजीब है। जो सोचो वो होता नहीं और जो हो जाता है वो सोचा नहीं होता। कई बार पहली मोहब्बत इस तरह होती है कि बस हो जाती है लेकिन पता नहीं चलता। और जब पता चलता है तो दिल इज़हार करने से डरता है। ऐसी मोहब्बत को एकतरफा मोहब्बत का नाम दिया जाता है। कुछ अलग ही एहसास होता है इसका। लेकिन अगर समय रहते इसका इजहार न किया जाए तो बाद में बस यादें ही रह जाती हैं। ऐसी ही एक याद को मैं आपके साथ बाँटना चाहता हूँ। आइये पढ़ते हैं :- ‘ एकतरफा मोहब्बत ‘

एकतरफा मोहब्बत

एकतरफा मोहब्बत

न जाने दर्द सा हुआ क्यों मुझको
और दिल भी मेरा रोया है,
पाया ही नहीं था तुझको
तो न जाने कैसे खोया है?
ये दूरियां हम दोनों के दरमियान
पहले दिन से ही थीं
मगर न जाने क्यों
इसका एहसास
तेरे जाने के बाद हुआ।

न जाने कब ये वक्त
बीतता ही चला गया,
न जाने कब तू मेरी
जिंदगी से होकर गुजर गया।

मैं हर रोज ये सोचकर
निकलता था घर से
जो कल न कह सका
वो आज कहूँगा फिर से
बयां कर दूंगा वो सब
जो इस दिल में छिपा रखा है,
मगर न जाने वो पल
कहाँ, कब और कैसे निकल गया।

हाँ मैं इस बात से वाकिफ हूँ
कि अब कभी तुझसे
मुलाकात न होगी,
सजाया करता था मैं जो ख्वाब
अफ़सोस अब वो रात न होगी,
कोई याद भी तो नहीं है
जिसके सहारे खुश हो लूँ मैं
एकतरफा मोहब्बत थी
बर्बाद हो गयी।

मगर तू जब तक
आँखों के सामने था
दिल में एक सुकून सा था,
अब तो बस बेबसी का
आलम हर वक़्त है,
और क्या लिखूं
कुछ समझ नहीं आता,
बस तेरा चेहरा
आँखों के सामने से नहीं जाता,
ये तो बस मैंने अपने जज्बातों को
शब्दों में पिरोया है,
न जाने दर्द सा हुआ क्यों मुझको
और दिल भी मेरा रोया है,
पाया ही नहीं था तुझको
तो न जाने कैसे खोया है?

पढ़िए :- प्यार की परिभाषा – प्यार क्या है? प्यार पर कविता

आपको यह कविता ‘ एकतरफा मोहब्बत ‘ कैसी लगी हमें अवश्य बतायें।

पढ़िए प्यार / मोहब्बत से संबंधित ये खूबसूरत रचनाएं :-


धन्यवाद।

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email

7 thoughts on “एकतरफा मोहब्बत :- पहली मोहब्बत के अनकहे जज़्बात कविता”

  1. Avatar
    Krishna Kumar maurya

    नमस्कार क्या मैं आपकी अनुमति से इस रचना को अपनी आवाज दे सकता हूं मैं पेशे से एक वॉइस ओवर आर्टिस्ट भी हूं आप के प्लेटफार्म और लेखक का नाम मेरे लिए ज्यादा महत्वपूर्ण है यह दोनों मेरे आवाज में शामिल रहेंगे यदि आप अनुमति देते हैं तो मैं आपका आभारी रहूंगा
    कृष्ण कुमार
    युवा रंगकर्मी
    प्रयागराज उत्तर प्रदेश

    1. Chandan Bais

      कृष्ण कुमार जी, हमारी इस रचना में दिलचस्पी दिखाने के लिए धन्यवाद। कृपया हमसे 9115672434 पर कॉल या whatsapp से संपर्क करे।

  2. Avatar

    बहुत अच्छा मित्र , आपकी कविताओं को पड़कर ओर शेयर कारके दिल हल्का हो जाता है। क्योंकि एकतरफा मोहब्बत की घटना होने के बाद ऐसा लगता था की हम अकेले हैं। पर अब लगता है हमारे जैसे बहुत से भाई है जिनके साथ ये घटनाएं हुई हैं

  3. Avatar

    वंडरफुल यार क्या लिखे हो, इसे समझ वही सकता है जिसने एकतरफा प्यार किया हो |

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *