नारी सशक्तीकरण पर दोहे | Nari Sashaktikaran Par Dohe On Women’s Day

नारी सशक्तीकरण पर दोहे

” नारी सशक्तीकरण पर दोहे ” में बताया गया है कि  महिलाओं को पुरुषों के समान अधिकार प्राप्त करने के लिए दूसरों के समर्थन की आशा छोड़कर स्वयं में आत्मविश्वास उत्पन्न करना चाहिए । अपनी आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए महिलाओं को सभी प्रकार के शोषण , उत्पीड़न और पुरुष वर्चस्ववादी सोच  का विरोध करना चाहिए । महिलाओं के सामाजिक, राजनैतिक और आर्थिक  अधिकारों का सभी लोगों  को सम्मान करना चाहिए । शासन और समाज दोनों को महिलाओं को  समान अवसरों की उपलब्धता में सकारात्मक भूमिका निभाना चाहिए ।

नारी सशक्तीकरण पर दोहे

नारी का व्यक्तित्व हो, नारी के अधिकार ।
नारी के भी स्वप्न का, हो अपना संसार ।।

क्यों करती हक के लिए, हाथ जोड़ फरियाद ।
नारी तू भी है मनुज, पूर्णतया आजाद ।।

समय न कर बर्बाद अब, और न बगलें झाँक ।
बढ़ नारी नव – राह पर, अपनी ताकत आँक ।।

नारी अब तो फूँककर, आजादी का शंख ।
छू भी ले आकाश को, फैलाकर निज पंख ।।

नारी मत तू और से, खुद को कमतर आँक ।
तेरे कदमों से रहा, कल का सूरज झाँक ।।

अब अबला की सोच से, होकर पूर्ण विरक्त ।
अपने निर्णय आप ले, नारी तभी सशक्त ।।

केवल शासन का नहीं, अपना भी कर्त्तव्य ।
नारी का जीवन करें, उचित मान दे भव्य ।।

” नारी सशक्तीकरण पर दोहे ” आपको कैसे लगे? अपने विचार हम तक कमेंट बॉक्स के माध्यम से जरूर पहुंचाएं।

पढ़िए महिला दिवस को समर्पित अप्रतिम ब्लॉग की ये बेहतरीन रचनाएं :-

धन्यवाद।

Add Comment

25 Famous Deshbhakti Naare and Slogan आधुनिक महापुरुषों के गुरु कौन थे?