किसीकी याद में कविता :- और फिर तेरी याद आयी | Yaad Kavita

किसीकी याद में कविता बताती है कि कैसे जब हम किसी से बिछड़ जाते हैं तो आस-पास की हर चीज उसकी याद दिलाने लगती है। हम उसे जितना भूलना चाहते हैं फिर वो उतना ही याद आता है। आइये पढ़ते हैं इन्हीं भावनाओं से भरी “किसीकी याद में कविता ” :-

किसीकी याद में कविता

किसीकी याद में कविता

देखकर हसीन वादियों को

मन में इक खुशहाली छाई

ओंस की महकती बूंदों ने

थी तेरी सूरत दिखलाई,

अक्स तेरा साफ दिखा मुझे

उस इंद्रधनुष के रंगों में

देखकर उसे गुम हो गए हम

और फिर तेरी याद आयी।

 

सूरज की उजली किरणों में

परछाई तेरी शरमाई

गुनगुनी सी धूप ने मन में

फिर प्रेम की चाहत जगाई,

पेड़ की छावं में बैठ मुझे

बीते लम्हें महसूस हुए

जीवन में बस थी तन्हाई

और फिर तेरी याद आयी।

 

मखमली चमकीली बर्फ पर

सुबह ने जब धूप बिखराई

फिर तेरा मासूम चेहरा

मुझे हर ओर दिया दिखाई,

टहलते हुए बर्फ में मुझे

कुछ किस्सों का अहसास हुआ

सरसराहट हुई तन में जब

और फिर तेरी याद आयी।

 

शाम का मौसम है सुहाना

गगन में इक लालिमा छाई

अस्त होते सूरज को देख

आंखें अपनी थी भर आयी,

जो मोहब्बत सूर्य सी जली

शाम ढलते ही बढ़ने लगी

धड़कनें मेरी बढ़ गयी जब

और फिर तेरी याद आयी।

 

जवां सर्द मौसम ने फिर से

बदन में एक ठिठुरन जगाई

तन्हा भिगो रहा था पलकें

तेरी याद फिर चली आई,

तकिये में किया ख्याल तेरा

रजाई बनी थी परछाई

सुबह फिर टूटा ख़्वाब मेरा

और फिर तेरी याद आयी।

 

साथ न तुझको भाया मेरा

जो मोहब्बत न निभा पाई

छोड़ दिया मुझको ऐसे ही

देकर साथ मुझे तन्हाई,

कैसे जिंदगी काटूँ मैं अब

उम्मीद न तेरे आने की

टूटता हुवा खुद को पाया

और फिर तेरी याद आयी।

पढ़िए :- याद में दर्द भरी कविता “तेरी यादें”


शिक्षक पर कवितामेरा नाम हरीश चमोली है और मैं उत्तराखंड के टेहरी गढ़वाल जिले का रहें वाला एक छोटा सा कवि ह्रदयी व्यक्ति हूँ। बचपन से ही मुझे लिखने का शौक है और मैं अपनी सकारात्मक सोच से देश, समाज और हिंदी के लिए कुछ करना चाहता हूँ। जीवन के किसी पड़ाव पर कभी किसी मंच पर बोलने का मौका मिले तो ये मेरे लिए सौभाग्य की बात होगी।

‘ किसीकी याद में कविता ‘ के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ blogapratim@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।