खुशी पर कविता :- खुशियों के फूल | Hindi Poem On Happiness

( Hindi Poem On Happiness ) खुशी पर कविता “ खुशियों के फूल ” एक शिक्षाप्रद कविता है जिसमें आपस में मिलजुल कर प्रेम से रहने और दूसरों से झगड़ा नहीं करने की सीख दी गई है । इस कविता में अपने सुख का त्याग कर औरों की सहायता करने की बात कही गई है । बच्चों और बड़ों के लिए समान रूप से उपयोगी इस कविता में दूसरों की गलतियों को माफ करने और अपनी कमियों की ओर ध्यान देकर सबके सुख की कामना की गई है ।

खुशी पर कविता

खुशी पर कविता

हम झगड़ें छोटी बातों पर
कभी नहीं यह अच्छी बात,
बात बात पर औरों को भी
सोचें ना देने की मात।

कड़वे बोल कभी ना बोलें
कहें किसी से कभी न झूठ,
बात नहीं होती है अच्छी
करें बहाना जाएँ रूठ।

रहें प्रेम से हम मिलजुल कर
नहीं और में डालें फूट ,
करें मदद हम हाथ थाम कर
जो पीछे जाता है छूट।

कभी किसी का बुरा न सोचें
सबके प्रति हों अच्छे भाव,
कभी किसी का दिल न दुखाएँ
नहीं कुरेदें मन के घाव।

संकट में हम देख अन्य को
नहीं वहाँ से जाएँ भाग,
विपदा से हम उसे उबारें
करके अपने सुख का त्याग।

क्षमा करें औरों की गलती
और सुधारें अपनी भूल,
काँटे चुन औरों के पथ से
बिखरा दें खुशियों के फूल।

– सुरेश चन्द्र ” सर्वहारा “

इस कविता का विडियो यहाँ देखें :-

खुशी पर कविता ( खुशियों के फूल ) | प्रसन्नता पर कविता | Hindi Poem On Happiness | Khushi Par Kavita

( Hindi Poem On Happiness ) “ खुशी पर कविता ” आपको कैसी लगी ? अपने विचार कमेंट बॉक्स के जरिये हम तक अवश्य पहुंचाएं। ऐसी ही कविताएँ पढ़ने के लिए बने रहिये अप्रतिम ब्लॉग के साथ।

पढ़िए अप्रतिम ब्लॉग की ये बेहतरीन कविताएँ :-

धन्यवाद।

3 Comments

  1. Avatar Manoj Dwivedi
  2. Avatar nidhi

Add Comment

आधुनिक महापुरुषों के गुरु कौन थे?