सुना है बहुत मशहूर हो तुम | इंसानियत पर एक छोटी कविता हिंदी में

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है।
रचना पसंद आये तो हमारे प्रोत्साहन के लिए कमेंट जरुर करें। हमारा प्रयास रहेगा कि हम ऐसी रचनाएँ आपके लिए आगे भी लाते रहें।

आज देश में हमारा समाज बंट चुके हैं। धर्म, जाति और रसूख के आधार पर सब एक दूसरे से दूर होते जा रहे हैं। ऐसे में उन लोगों की असलियत प्रस्तुत कर रही है यह Hindi Kavita – Suna Hai Bahut Mashahur Ho Tum । Ab Padhiye Hindi Aur English Font Me.

हिंदी कविता – सुना है बहुत मशहूर हो तुम

हिंदी कविता - सुना है बहुत मशहूर हो तुम

सुना है बहुत मशहूर हो तुम दिल बहलाने में
कभी तशरीफ लाओ हमारे गरीबखाने में।
यहाँ मंदिर में आरती
मस्जिद से अजां की अवाजें आती हैं
मज़हब के नाम पर तलवारें तन जाती हैं।
मर चुकी है इन्सानियत जिन्दा इन इन्सानों में
है दामन सबका मटमैला फिर भी
गर्व महसूस करते हैं खुद का धर्म बताने में।

कोशिश करके देख लो तुम भी
शायद ये गले लग मिल जाएं
हम भी कसर न छोड़ेंगे अब तुमको अजमाने में।
सुना है बहुत मशहूर  हो तुम दिल बहलाने में
कभी तशरीफ लाओ हमारे गरीबखाने में।

पढ़िए-हिंदी कविता – थक चुका हूँ मैं 


Suna Hai Bahut Mashahur Ho Tum Dil Bahlane Me,
Kabhi Tashrif Lao Hamare GareebKhane Me.
Yahaan Mandir Me Aarti,
Masjid Se Ajaan Ki Awaaje Aati Hai,
Majahab Ke Naam Par Talware Tan Jati Hai.
Mar Chuki Hai Insaniyat Jinda In Insano Me,
Hai Daman Sabka Matmaila Fir Bhi,
Garv Mehsus Karte Hai Khud Ka Dharm Batane Me.

Koshish Karke Dekh Lo Tum Bhi,
Shayad Ye Gale Lag Mil Jaye,
Ham Bhi Kasar Naa Chhodenge Ab Tumko Aajmane Me.
Suna Hai Bahut Mashahur Ho Tum Dil Bahlane Me,
Kabhi Tashrif Lao Hamare GareebKhane Me.

Padhiye- मुश्किलें इस जहान में – Poem On Situation Of Country


छोटी हिंदी कविता आपको कैसी लगी? इस कविता के बारे में अपने बहुमूल्य विचार कमेंट बॉक्स के जरिये हम तक जरूर पहुंचाएं।

तब तक पढ़िए ये बढ़िया पोस्ट-


धन्यवाद।

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email

20 thoughts on “सुना है बहुत मशहूर हो तुम | इंसानियत पर एक छोटी कविता हिंदी में”

    1. Sandeep Kumar Singh
      Sandeep Kumar Singh

      पूजा जी आप अपनी कविता blogapratim@gmail.com ईमेल आईडी पर भेज सकती हैं या फिर 9115672434 पर व्हाट्सएप्प के जरिये भेज सकती हैं।

  1. Avatar

    सर आपकी कविता बहुत ही अच्छी है।मैं भी लिखती हूँ।और आप ही की तरह अध्यापिका हूँ।

    1. Sandeep Kumar Singh
      Sandeep Kumar Singh

      बहुत अच्छा है दीपिका सिंह जी…. हम आपकी रचनाएँ अवश्य पढ़ना चाहेंगे…

  2. Avatar

    सर बहुत ही अच्छी कविताएं है आपकी।मैं आपसे बहुत प्रेरित हूं।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *