अब वो दौर क्यों नहीं आता :- बीते लम्हों की याद में कविता | यादों की किताब भाग – 4

पहली मुलाकात और उसके बाद मोहब्बत में होने वाला हर काम यादों की किताब में इस कदर दर्ज हो जाता है कि उन लम्हों को याद कर दुबारा से जीने का दिल कर आता है। मगर ऐसा संभव नहीं हो पाता। फिर हर कवि या शायर अपने उन जज्बातों को शब्दों के रूप में कैसे लिखता है ये बता रहें हैं हरीश चमोली जी इस कविता ‘ अब वो दौर क्यों नहीं आता ‘ में :-

अब वो दौर क्यों नहीं आता

अब वो दौर क्यों नहीं आता

क्या याद है तुझे वो वक़्त
जब मिले हम पहली दफा
मुझे देख तेरे मुस्कुराने का
अब वो दौर क्यों नहीं आता।

मेरे होने से तेरा नूर खिले
जिसे देख मेरा मन हर्षाता
मेरे हाथ में तेरा हाथ रहे
अब वो दौर क्यों नहीं आता।

पहली मुलाकात की वो कॉफी
जिसके प्याले में दिल बना था
उस मिठास सा मुझमें घुल जाने का
अब वो दौर क्यों नहीं आता।।

मिलने को तुझसे सुबह शाम
मैं था बहाने लाख बनाता
तू भी मुझसे मिलने को तरसे
अब वो दौर क्यों नहीं आता।

क्या याद है वो सारी कसमें
कभी न छोड़ जाने का वादा
प्यार में जीने मरने की रस्मों
अब वो दौर क्यों नही आता।

लाल कागज में लपेटकर दिया
वो पहला तोहफा रखा है संभाला
उन उपहारों की बरसातों का
अब वो दौर क्यों नही आता।

बात बात पर गुस्सा दिलाकर
फिर झट से मनाने था मैं आता
रूठने मनाने के सिलसिलों का
अब वो दौर क्यों नही आता।

सूनी पड़ी दिल की किताबें
पढ़ने को कुछ नहीं भाता
तेरा नाम लिख कर मिटा देने का
अब वो दौर क्यों नही आता।

लग रहा है यहां वीराना मुझे
अपना ही शहर लग रहा अनजाना
तेरी बाहों में लिपटे रहने का
अब वो दौर क्यों नही आता।

अब रातें मुझें शमशान हैं लगती
दिन में भी सुकून कहीं नहीं पाता
खुशनुमा बिताये हसीन लम्हों का
अब वो दौर क्यों नहीं आता।

आज नहीं है तू साथ मेरे
मेरी नींदों में तेरा ख्वाब है आता
इक आवाज से तू मेरे पास आ जाये
अब वो दौर क्यों नहीं आता।

क्या याद है तुझे वो वक़्त
जब मिले हम पहली दफा
मुझे देख तेरे मुस्कुराने का
अब वो दौर क्यों नहीं आता।

पढ़िए :- यादों की किताब से कविता ‘तेरी यादें जब इस दिल में’


शिक्षक पर कवितामेरा नाम हरीश चमोली है और मैं उत्तराखंड के टेहरी गढ़वाल जिले का रहें वाला एक छोटा सा कवि ह्रदयी व्यक्ति हूँ। बचपन से ही मुझे लिखने का शौक है और मैं अपनी सकारात्मक सोच से देश, समाज और हिंदी के लिए कुछ करना चाहता हूँ। जीवन के किसी पड़ाव पर कभी किसी मंच पर बोलने का मौका मिले तो ये मेरे लिए सौभाग्य की बात होगी।

‘ अब वो दौर क्यों नहीं आता ‘ कविता के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे लेखक का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढने का मौका मिले।

यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हामरे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ [email protected] पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

You may also like...

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।