किसान का दर्द कविता :- अन्नदाता की सुनो पुकार | किसान पर कविता – 2

किसान इस देश के अन्नदाता हैं फिर भी उनकी स्थिति आज के दौर में बहुत ही दयनीय हो रही है। खेती कर पर कभी उसे सूखे की मार झेलनी पड़ती है तो कभी बाढ़ की। ऐसे में बहुत सरे किसान कर्जदार हो कर आत्महत्याएं कर रहे हैं। ऐसे ही किसान भाइयों को समर्पित है ये किसान का दर्द कविता :-

किसान का दर्द कविता

किसान का दर्द कविता

कुछ फांसी पर लटक चुके
कुछ हो रहे अब तैयार,
कैसा मचा ये हाहाकार
अन्नदाता की सुनो पुकार।

स्वयं चाहे भूखा रह जाए
औरों तक भोजन पहुंचाए
फिर भी कोई न उसकी सुनता
किसको अपनी व्यथा सुनाये,
राजनीती के शोर में अक्सर
दब जाती उसकी चीत्कार
कैसा मचा ये हाहाकार
अन्नदाता की सुनो पुकार।

लोग तो झूठे हैं ही यहाँ पर
मौसम भी बेईमान हुआ
बेकार हुयी सारी मेहनत
और बहुत नुकसान हुआ,
कभी आ रही बाढ़
कभी सूखे की पड़ती मार
कैसा मचा ये हाहाकार
अन्नदाता की सुनो पुकार।

कितनी भी विकत हो परिस्थिति
उम्मीद वो बांधे रहता है
भटके न वो राह कभी
लक्ष्य को साधे रखता है,
फिर भी ऐसी हुयी है हालत
आज हो रहा है कर्जदार
कैसा मचा ये हाहाकार
अन्नदाता की सुनो पुकार।

जमीन वो गिरवी रख देता
बेटी का ब्याह रचाने को
करता है वो ये सब बस
समाज में इज्ज़त बचाने को,
लेकिन वो समझ न पाए
ये समाज करे है अत्याचार
कैसा मचा ये हाहाकार
अन्नदाता की सुनो पुकार।

गर किसान हो न रह जायेगा
ये जग भूखा मर जायेगा
बिन किसान के देश भी ये
आगे न बढ़ पायेगा,
कुछ सोचो कुछ बात करो
जीवन में कुछ इनके सुधार
कैसा मचा ये हाहाकार
अन्नदाता की सुनो पुकार।

पढ़िए :- किसान पर कविता ‘ये धरा ही उसकी माता है’

किसान का दर्द कविता आपको कैसी लगी हमें कमेंट बॉक्स के जरिये जरूर बताएं। यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हामरे ब्लॉग के जरिये लोगन तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ blogapratim@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

4 Responses

  1. siwan News Online कहते हैं:

    kya baat batai hai aapne bahut bahut shukriya ye kavita share karne ke liye bahut bahut dhanyawad!

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।