स्वच्छ भारत अभियान पर कविता :- भारत को स्वच्छ बनाना है

स्वच्छ भारत अभियान के बारे में कौन नहीं जानता। 2 अक्टूबर 2004 को यह अभियान महात्मा गाँधी के जन्म दिवस पर आरंभ किया गया था। इसका उद्देश्य भारत को स्वच्छ और सुन्दर बनाना है। इस अभियान के तहत सब लोगों तक यह्ज सन्देश पहुँचाया जाता है कि अपने आस-पास सफाई रखें और इस तरह देश को सुन्दर और गंदगी मुक्त बनाने में सहयोग दें। इतना ही नहीं 2019 तक जब गाँधी जी का 150वाँ जन्मदिवस होगा। उस समय तक खुले में सौच मुक्त भारत बनाने का सपना भी है। इन्हीं उद्देश्यों को प्रोत्साहित करने के लिए हम आपके लिए लाये हैं :- स्वच्छ भारत अभियान पर कविता । ( इससे पहले आप पढ़ चुके हैं स्वच्छ अभियान स्लोगन व नारे )

स्वच्छ भारत अभियान पर कविता

स्वच्छ भारत अभियान पर कविता

उठा लो झाड़ू, उठा लो पोंचा
पहुँचो जहाँ कोई भी न पहुंचा
कोई जगह न रहने पाए
हर जगह को हम चमकाएं,
सपना यही है बस अपना
स्वच्छता को अपनाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है।

सफाई का जो रखें ध्यान
बिमारियों से बचती जान
ख्वाब से न कोई आगे बढ़ता
बस कर्मों से बनता महान,
इधर उधर न फैंक के कूड़ा
कूड़ेदान में हमें पहुँचाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है।

न फैंके नदियों में कूड़ा
न प्लास्टिक का उपयोग करें
कुदरत को नुक्सान न हो
ऐसी चीजों का उपभोग करें,
वातावरण को भी तो हमको
प्रदुषण मुक्त बनाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है।

आस-पास जो स्वच्छता होगी
मन भी तब ही पावन होगा
खुशियों की बारिश से हरदम
भरा हुआ हर आँगन होगा,
यही सन्देश तो जन-जन तक
अब हमको पहुँचाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है।

जिम्मेदार है हमको बनना
और औरों को बनाना है
देश के गर्व को अब हमको
हर कोशिश से आगे बढ़ाना है,
सबसे सुन्दर देश है मेरा
पूरे विश्व को ये दिखाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है
भारत को स्वच्छ बनाना है।

पढ़िए :- हिंदी हैं हम वतन ये हमारा हिंदुस्तान है कविता

इस स्वच्छ भारत अभियान पर कविता के बारे में अपने विचार हमारे साथ जरूर साझा करें।

यदि आप भी रखते हैं कुछ लिखने का शौंक और चाहते हैं कि आपकी रचना हमारे ब्लॉग में प्रकाशित हो तो उठाइए अपना लैपटॉप या बैठ जाएँ कंप्यूटर के पास और हमें अपनी रचना मेल कर दीजिये।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!
Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

बस आप लोगों ने देख लिया जीवन धन्य हो गया। इसी तरह यहाँ पधारते रहिये और हमारा उत्साह बढ़ाते रहिय्रे। वैसे अभी तो मैं एक अध्यापक हूँ साथ ही इस अपने इस ब्लॉग क लिए लिखता हूँ। लेकिन मेरे लिए महत्वपूर्ण है आप लोगों के विचार। अपने विचार हम तक अवश्य पहुंचाएं। जिससे हम उन पर काम कर के आपकी उम्मीदों पर खरे उतर सकें। धन्यवाद।

You may also like...

8 Responses

  1. गौतम रावत says:

    सून्दर अभिव्यक्ति

  2. surendra Singh says:

    Aapke dwara likhi gayi bate or jo bhi mene padha bahut hi achi h

  3. Khushbu Khatri says:

    संदीप कुमार जी, पहले तो आपको ढेर सारी शुभकामनाएं कि भगवान ने आपको अदभुत लेखन कला का उपहार दिया हैं, और यही आशा हे की आप इसी तरह सुंदर एवम पसंशनीय कविताएँ लिखते रहें

    • Sandeep Kumar Singh Sandeep Kumar Singh says:

      धन्यवाद खुशबू खत्री जी। बस आप जैसे पाठकों का साथ बना रहे तो कलम अपने आप चलने लगती है। बहुत-बहुत धन्यवाद।

  4. vibha rani Shrivastava says:

    आपकी लिखी रचना पांच लिंकों का आनन्द में शनिवार 24 फरवरी 2018 को लिंक की जाएगी ….
    http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ….धन्यवाद!

Leave a Reply

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।