हिंदी दिवस पर कविता – हिंदी हमारी है | Poem On Hindi Diwas In Hindi

सूचना: दूसरे ब्लॉगर, Youtube चैनल और फेसबुक पेज वाले, कृपया बिना अनुमति हमारी रचनाएँ चोरी ना करे। हम कॉपीराइट क्लेम कर सकते है।
रचना पसंद आये तो हमारे प्रोत्साहन के लिए कमेंट जरुर करें। हमारा प्रयास रहेगा कि हम ऐसी रचनाएँ आपके लिए आगे भी लाते रहें।

मेरे एक रचनाकार बनने के पीछे हिंदी भाषा का बहुत बड़ा योगदान रहा है। यदि आज मैं इस ब्लॉग के जरिये  अपनी एक छोटी सी पहचान बनाने में कामयाब हुआ हूँ तो उसका सबसे पहला श्रेय हिंदी को ही जाता है। मेरे जीवन में हिंदी का जो महत्त्व रहा है उसे आज हिंदी दिवस के अवसर पर मैं शब्दों की सहायता से आप सब तक पहुँचाने का प्रयास कर रहा हूँ। आशा करता हूँ कि आप सबको यह रचना ” हिंदी दिवस पर कविता ” पसंद आएगी।  :-

हिंदी दिवस पर कविता

हिंदी दिवस पर कविता

है जिसकी शान निराली
जिसकी हर बात न्यारी है,
सभी भाषाओं से प्यारी
हमें हिंदी हमारी है।

बचपन से लबों पर है
इससे ही मान है मेरा,
जहन में रात दिन मेरे
रहे इसका ही बसेरा,
ये देवी है विचारों की
तन ये इसका पुजारी है,
सभी भाषाओं से प्यारी
हमें हिंदी हमारी है।

बचाए सभ्यता को जो
ये भारत की वही आशा,
मिला कर रखती है सबको
जनमानस की है ये भाषा,
लिखे साहित्य की इसने
सुंदरता निखारी है,
सभी भाषाओं से प्यारी
हमें हिंदी हमारी है।

इसी में गाता हूँ अक्सर
इसी में गुनगुनाता हूँ,
इसी में मन के भावों
कलम से लिखता जाता हूँ,
यही वो भाषा है जिसने
मेरी हालत सुधारी है,
सभी भाषाओं से प्यारी
हमें हिंदी हमारी है।

पिता की डांट से लेकर
माँ की लोरी है हिंदी से,
प्रेम ही प्रेम फैलाती
मिटती है दूरी हिंदी से,
इसी के साथ जीवन की
सभी घड़ियाँ गुजारी हैं,
सभी भाषाओं से प्यारी
हमें हिंदी हमारी है।

पढ़िए :- हिंदी दिवस को समर्पित बेहतरीन नारे

‘ हिंदी दिवस पर कविता ‘ के आपको कैसी लगी? अपने विचार कमेंट बॉक्स के जरिये हम तक अवश्य पहुंचाएं।

हिंदी दिवस को समर्पित यह बेहतरीन रचनाएँ :-


धन्यवाद।

Share on whatsapp
WhatsApp
Share on telegram
Telegram
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on email
Email

1 thought on “हिंदी दिवस पर कविता – हिंदी हमारी है | Poem On Hindi Diwas In Hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *