हिंदी दिवस पर नारे :- हिंदी भाषा के महत्त्व को बताते हिंदी दिवस पर स्लोगन

हिंदी भाषा के सम्मान में हमारी राजभाषा हिंदी को समर्पित है ये हिंदी दिवस पर नारे और स्लोगन :-

हिंदी दिवस पर नारे

हिंदी दिवस पर नारे

1.

देश की ऊंची शान करें,
हम हिंदी में काम करें।


2.

अपना देश महान है,
हिंदी से हिंदुस्तान है।


3.

जन-जन को जो मिलाती है,
वो भाषा हिंदी कहलाती है।


4.

हिंदी हमारी ताकत है,
हिंदी एक विरासत है।


5.

कोई पूछे जो कैसी है?
हिंदी मेरी माँ जैसी है।



6.

बिन मातृभाषा के साहित्य भी वीरान रहेगा,
हिंदी रहेगी तभी हिंदुस्तान रहेगा।


7.

अच्छी तरह मिलेगा ज्ञान,
यदि हिंदी में होगा विद्या का दान।


8.

आओ अब आगे बढ़ें,
हिंदी लिखें हिंदी पढ़ें।


9.

सम्मान को ठेस न लगने पाए,
आओ हम हिंदी अपनाएं।


10.

सबको करती एक समान
हिंदी भाषा बड़ी महान।


11.

जिस से जुडी हमारी हर आशा है,
वो हमारी हिंदी भाषा है।


12.

बिना राष्ट्रभाषा के राष्ट्र का उत्थान असंभव है।



13.

देश की सेवा मेरी भक्ति है,
हिंदी भाषा मेरी शक्ति है।


14.

बिन हिंदी बर्बादी है,
हिंदी ही हमारी आज़ादी है।


15.

भारतवासी होकर भी क्यों इस तथ्य से हम अनजान हैं
हिंदी हमारा सम्मान है, हिंदी में हमारे प्राण हैं।


16.

देखो समझो बात हमारी,
हिंदी भाषा है सबसे प्यारी।


17.

हिंदी भाषा बहुत पुरानी है,
दादी नानी की ये निशानी है।


18.

प्यार मोहब्बत भरा है जिसमें, जिससे जुड़ी हर आशा है
मिसरी से भी मीठी है जो, वो हमारी हिंदी भाषा है।


19.

बढ़ा रही यह मेरी शान
हिंदी ही है मेरी पहचान।



20.

बहुत सभ्य यह भाषा है, लगती भी संस्कारी है
सब को जो जोड़ कर रखती, हिंदी भाषा प्यारी है।


21.

है ये वतन  हमारा  हिंदी, हिंदुस्तान इसे  हम कहते हैं
राष्ट्रभाषा है अपनी हिंदी, मातृभाषा इसे हम कहते हैं।


पढ़िए :- हिंदी दिवस पर शायरी

हिंदी दिवस पर नारे जैसी रचनाओं द्वारा यदि आप भी हिंदी भाषा की सेवा हेतु कोई रचना हमारे ब्लॉग पर प्रकाशित करवाना चाहते हैं तो अपनी रचना हमारी ईमेल आईडी [email protected] पर या 9115672434 पर व्हाट्सएप्प के जरिये पहुंचा सकते हैं।

धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

प्रातिक्रिया दे

हमें ख़ुशी है की हमारे लेख के बारे में आप अपने विचार देना चाहते है, परन्तु ध्यान रहे हम सारे कमेंट को हमारे कमेंट पालिसी के आधार पर स्वीकार करते है।