पिता पर दोहे :- पिता दिवस पर जीवन में पिता का महत्त्व बताते दोहे

जीवन में पिता की बहुत अहमियत होती है। पिता जो हमें जीवन जीने की कला सिखाता है। हमारे जीवन में युवावस्था में एक ऐसा समय आता है जब हम में से कई लोगों को लगता है कि पिता हमें रोकते-टोकते रहते हैं। उस समय हमें अपने पिता का वो व्यवहार बहुत बुरा लगता है। लेकिन जैसे-जैसे जीवन की गाड़ी आगे बढ़ती है हमें यह अहसास होता जाता है कि पिता हर बात में सही थे। आइये पढ़ते हैं उन्हीं पिता को समर्पित यह दोहा संग्रह “ पिता पर दोहे “ :-

पिता पर दोहे

पिता पर दोहे

1.
जादूगर ऐसे पिता, सपनों को दें जान ।
स्वयं रूप भगवन का, जिसकी हम संतान ।।
2.
जीवन की हर राह पर, चलना हो आसान ।
अनुभव पितु से लीजिये, और बढ़ाओ ज्ञान ।।
3.
हमको देते छाँव है, स्वयं झेलते धूप ।
जीवन में संतान की, होते पिता अनूप ।।
4.
अभिलाषा बस एक है, सुखी रहे परिवार ।
अपना सुख सब त्यागते, बांटे सबको प्यार ।।
5.
हर इच्छा पूरी , देखे ना दिन रात ।
सबके जीवन में पिता, इश्वर की सौगात ।।
6.
काँधे पर हमको बिठा, करवाते थे सैर ।
कभी न थकते थे पिता, बढ़ते रहते पैर ।।
7.
गिरने पर थे थामते, होते सदा सहाय ।
करते नहीं समर्थ जो, हम होते निरुपाय ।।
8.
पितु ही कुनबा पालते, होते नहीं हताश ।
फर्ज निभाने से कभी, लिए नहीं अवकाश ।।

पढ़िए :- पिता दिवस पर ” पिता को समर्पित बेहतरीन शायरी संग्रह “

‘ पिता ‘के बारे में कृपया अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। यदि आप भी रखते हैं लिखने का हुनर और चाहते हैं कि आपकी रचनाएँ हमारे ब्लॉग के जरिये लोगों तक पहुंचे तो लिख भेजिए अपनी रचनाएँ blogapratim@gmail.com पर या फिर हमारे व्हाट्सएप्प नंबर 9115672434 पर।

पढ़िए पाठकों में चर्चित पिता को समर्पित कुछ और बेहतरीन रचनाएँ :-

धन्यवाद।

अभी शेयर करे
WhatsAppFacebookTwitterGoogle+BufferPin It

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Add Comment