नवरात्रि पर भक्ति गीत :- ईक बार पधारो माँ | Navratri Par Bhakti Geet

नवरात्रि के पावन अवसर पर देवी माँ को घर में आने के लिए की जा रही प्रार्थना को शब्दों में प्रस्तुत करता नवरात्रि पर भक्ति गीत :-

नवरात्रि पर भक्ति गीत

नवरात्रि पर भक्ति गीत

ईक बार पधारो माँ
आँगन में चले आना,
सारे भक्त खडे़ द्वारे
पर्चा दिखला जाना।

वो घडी़ कौनसी थी
वो कौनसा पल होगा,
तेरे दर्श को तरसे है
हर जन्म सफल होगा,
भक्ति का समंदर माँ
भवपार करा जाना,
सारे भक्त खडे़ द्वारे
पर्चा दिखला जाना।

तन मन से वाणी से
तुझको पुजा है माँ,
कर्मो के बंधन सारे
जल्दी हर ले तु माँ,
दीदार के प्यासे नैन
बस झलक दिखा जाना,
सारे भक्त खडे़ द्वारे
पर्चा दिखला जाना।

मेरी आस बंधी तुमसे
ये आस ना तोडे़गे,
सारी दुनिया देख रही
विश्वास ना छोडे़गे,
परिपूर्ण समर्पित मैं
मुझको नहीं ठुकराना,
सारे भक्त खडे़ द्वारे
पर्चा दिखला जाना।

ईक बार पधारो माँ
आँगन में चले आना,
सारे भक्त खडे़ द्वारे
पर्चा दिखला जाना।

पढ़िए :- नवरात्रि पर भक्ति गीत कविता ” हे जग जननी अंबे “


प्रवीणमेरा नाम प्रवीण हैं। मैं हैदराबाद में रहता हूँ। मुझे बचपन से ही लिखने का शौक है ,मैं अपनी माँ की याद में अक्सर कुछ ना कुछ लिखता रहता हूँ ,मैं चाहूंगा कि मेरी रचनाएं सभी पाठकों के लिए प्रेरणा का स्रोत बनें।

‘ नवरात्रि पर भक्ति गीत ‘ के बारे में अपने विचार कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। जिससे रचनाकार का हौसला और सम्मान बढ़ाया जा सके और हमें उनकी और रचनाएँ पढ़ने का मौका मिले।


धन्यवाद।

Add Comment