कालिदास और विद्योत्तमा | कालिदास के विवाह की कहानी

कालिदास और विद्योत्तमा

भारतीय इतिहास कई महान व्यक्तियों की बदौलत सम्पूर्ण विश्व में जाना जाता है। भारतीय धरा पर कई विद्वान् और पंडित हुए हैं जिन्होंने इस धरती को ऐसी देन दी है जिस से हर भारतीय का सीन गर्व से चौड़ा हो जाता है। इन्हीं महान आत्माओं में से एक हैं कालिदास। इनके जीवनकाल से सकारात्मक होकर जीवन जीने की प्रेरणा मिलती है। आइये जानते हैं महाकवि कालिदास और विद्योत्तमा के जीवन के बारे में :-

कालिदास का जीवन परिचय

कालिदास और विद्योत्तमा

कालिदास का जन्म किस काल में हुआ और वे मूलतः किस स्थान के थे इसके बारे में अलग-अलग विद्वानों में काफ़ी विवाद है।

कालिदास संस्कृत भाषा के महान कवि और नाटककार थे। भारत की पौराणिक कथाओं और दर्शन को आधार बनाकर उन्होंने काफी रचनाएं की और उनकी रचनाओं में भारतीय जीवन और दर्शन के विविध रूप और मूल तत्व निरूपित हैं। वे अपनी इन्हीं विशेषताओं के कारण राष्ट्र की समग्र राष्ट्रीय चेतना को स्वर देने वाले कवि माने जाते हैं और कुछ विद्वान उन्हें राष्ट्रीय कवि का स्थान तक देते हैं।

कालिदास के बारे में कथाओं और किम्वादंतियों से ये पता चलता है की वह शक्लो-सूरत से सुंदर थे और विक्रमादित्य के दरबार के नवरत्नों में एक थे। कहा जाता है कि प्रारंभिक जीवन में कालिदास अनपढ़ और मूर्ख थे।

कालिदास और विद्योत्तमा

उनकी शादी विद्योत्तमा नाम की राजकुमारी से हुई। ऐसा कहा जाता है कि विद्योत्तमा ने प्रतिज्ञा की थी कि जो कोई उसे शास्त्रार्थ में हरा देगा, वह उसी के साथ शादी करेगी। जब विद्योत्तमा ने शास्त्रार्थ में सभी विद्वानों को हरा दिया तो अपमान से दुखी कुछ विद्वानों ने कालिदास से उसका शास्त्रार्थ कराया।

विद्योत्तमा मौन शब्दावली में गूढ़ प्रश्न पूछती थी, जिसे कालिदास अपनी बुद्धि से मौन संकेतों से ही जवाब दे देते थे। विद्योत्तमा को लगता था कि वो गूढ़ प्रश्न का गूढ़ जवाब दे रहे हैं। उदाहरण के लिए विद्योत्तमा ने प्रश्न के रूप में खुला हाथ दिखाया तो कालिदास को लगा कि यह थप्पड़ मारने की धमकी दे रही है। उसके जवाब में उसने घूंसा दिखाया तो विद्योत्तमा को लगा कि वह कह रहा है कि पाँचों इन्द्रियाँ भले ही अलग हों, सभी एक मन के द्वारा संचालित हैं।

कालिदास का विवाह

कालिदास और विद्योत्तमा का विवाह हो गया तब विद्योत्तमा को सच्चाई का पता चला कि वे अनपढ़ हैं। उसने कालिदास को धिक्कारा और यह कह कर घर से निकाल दिया कि सच्चे पंडित बने बिना घर वापिस नहीं आना।

⇒पढ़िए- भारत की पौराणिक संस्कृति | भारतीय संस्कृति की पहचान

( अस्ति कश्चित वागर्थीयम् नामसेडॉ कृष्ण कुमार ने १९८४ में एक नाटक लिखा, यह “नाटक कालिदास के विवाह” की लोकप्रिय कथा पर आधारित है। इस कथा के अनुसार, कालिदास पेड़ की उसी टहनी को काट रहे होते हैं, जिस पर वे बैठे थे। विद्योत्तम से अपमानित दो विद्वानों ने उसकी शादी इसी कालिदास के करा दी। जब उसे ठगे जाने का अहसास होता है, तो वो कालिदास को ठुकरा देती है। साथ ही, विद्योत्तमा ने ये भी कहा कि अगर वे विद्या और प्रसिद्धि अर्जित कर लौटते हैं तो वह उन्हें स्वीकार कर लेगी। जब वे विद्या और प्रसिद्धि अर्जित कर लौटे तो सही रास्ता दिखाने के लिए कालिदास ने उन्हें पत्नी न मानकर गुरू मान लिया।)

कालिदास ने सच्चे मन से काली देवी की आराधना की और उनके आशीर्वाद से वे ज्ञानी और धनवान बन गए। ज्ञान प्राप्ति के बाद जब वे घर लौटे तो उन्होंने दरवाजा खड़का कर कहा – कपाटम् उद्घाट्य सुन्दरी (दरवाजा खोलो, सुन्दरी)। विद्योत्तमा ने चकित होकर कहा — अस्ति कश्चिद् वाग्विशेषः (कोई विद्वान लगता है)।

उन्होंने विद्योत्तमा को अपना पथप्रदर्शक गुरू माना और उसके इस वाक्य को उन्होंने अपने काव्यों में जगह दी। और अपने जीवन काल के दौरान कई अद्भुत रचनाएँ दीं। कहते हैं कि कालिदासजी की श्रीलंका में हत्या कर दी गई थी लेकिन विद्वान इसे भी कपोल-कल्पित मानते हैं।

⇒पढ़िए- हनुमान चालीसा लिरिक्स हिंदी में | हनुमान चालीसा डाउनलोड pdf ebook

इस तरह उनके जीवन से हमें बहुत सी शिक्षाएँ मिलती हैं। अगर कोई आपकी कमियां बताता है तो उसे हमें सकारत्मक तौर पर लेना चाहिए। जब हम कोई कार्य करने की सोचते हैं तो हमें अपने पथ से भटकना नहीं चाहिए। जीवन में अगर कभी अंधकार आये तो घबराना नहीं चाहिए।

मित्रों आपको Kalidas के जीवन से क्या शिक्षा मिली कमेंट बॉक्स में अपने विचार लिखना ना भूलें। हमें आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा। धन्यवाद।

ये रचनाएँ भी पढ़े..



अच्छा लगा? तो क्यों ना लाइक और शेयर करे..!

हमारे सब्सक्रिप्शन पालिसी जानिए या अपना सब्सक्रिप्शन अपडेट कीजिये।

Sandeep Kumar Singh

Sandeep Kumar Singh

ये कविताएं, शायरियां और कुछ विचार मेरी खुद की रचनाएं हैं। कुछ नकलची बंदरों ने इन्हें चुरा कर अपने ब्लॉग पर डाल लिया है। असली रचनाएं यहीं हैं। आशा करता हूँ कि यदि आप ये रचनाएं कहीं शेयर करते हैं तो हमारे ब्लॉग का लिंक साथ मे जरूर दें। मैं एक अध्यापक हूँ और अपने इस ब्लॉग क लिए खुद ही लिखता हूँ। धन्यवाद।

You may also like...

18 Responses

  1. अरविंदजी ठाकोर कहते हैं:

    बहुत ज्ञानवर्धक और महा कवि कालिदास के जीवन में झांक ने का अवसर मिला।

  2. akash singh कहते हैं:

    Wiki se churaua hai ye bhudhu banta hai

  3. Swadesh कहते हैं:

    Kya Kalidas murkh the? Nahi. Wo to ashikshit the. Murkh to Jada tar log hai jo Apne parents patni Ko kar dete hai Jo ki jiwan ka Sahara Hoti hai , ek daal Hoti hai.

  4. Ajay pandey कहते हैं:

    Kya meghadoot ka naatak aap prakasit kr sakte hain is blog me

  5. दीपक कुमार कहते हैं:

    हम इस कहानी से आगे बढ़ने की अनेक-अनेक रास्ते मिलते हैं कालिदास के कविताओं से सीख मिलती है कि हमें भी कुछ करना चाहिए

  6. Gaurishankar Singh कहते हैं:

    विद्योत्तमा ने कालिदास के लिए द्वार खोलने से पूर्व कहा~अस्ति कश्चिद् वाग्विशेषः।कालिदास ने इन चार शब्दों(अस्ति/कश्चिद्/वाग्/विशेष्ः)से क्रमशः आरंभ करते हुए चार ग्रंथों की रचना की।इन ग्रंथों का संदर्भ दे सकें तो उपयोगी होगा।

    • Sandeep Kumar Singh Sandeep Kumar Singh कहते हैं:

      गौरी शंकर जी हम जरूर प्रयास करेंगे कि आपके द्वारा बताई गई जानकारी को विस्तारपूर्वक पढ़ कर इस से संबंधित जानकारी आप तक पहुंचा सकें। तब तक आप हमारे साथ यूँ ही बने रहें। धन्यवाद।

  7. Krishna gopal Ray कहते हैं:

    Achchha to lga, parantu byakhyanko our ghrai men le janese log our lavanwit honge, jarurat hai nye tathyon ka. Dhanybad.

  8. Rahul choudhary कहते हैं:

    Kalidash was the brave man of Indian culture mind is great and powerful . Mind is royal

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *