कालिदास और विद्योत्तमा | कालिदास के विवाह की कहानी | Kalidas Ki Kahani

कालिदास और विद्योत्तमा

भारतीय इतिहास कई महान व्यक्तियों की बदौलत सम्पूर्ण विश्व में जाना जाता है। भारतीय धरा पर कई विद्वान् और पंडित हुए हैं जिन्होंने इस धरती को ऐसी देन दी है जिस से हर भारतीय का सीन गर्व से चौड़ा हो जाता है। इन्हीं महान आत्माओं में से एक हैं कालिदास। इनके जीवनकाल से सकारात्मक होकर जीवन जीने की प्रेरणा मिलती है। आइये जानते हैं महाकवि कालिदास और विद्योत्तमा के जीवन के बारे में :-

कालिदास का जीवन परिचय

कालिदास और विद्योत्तमा

कालिदास का जन्म किस काल में हुआ और वे मूलतः किस स्थान के थे इसके बारे में अलग-अलग विद्वानों में काफ़ी विवाद है।

कालिदास संस्कृत भाषा के महान कवि और नाटककार थे। भारत की पौराणिक कथाओं और दर्शन को आधार बनाकर उन्होंने काफी रचनाएं की और उनकी रचनाओं में भारतीय जीवन और दर्शन के विविध रूप और मूल तत्व निरूपित हैं। वे अपनी इन्हीं विशेषताओं के कारण राष्ट्र की समग्र राष्ट्रीय चेतना को स्वर देने वाले कवि माने जाते हैं और कुछ विद्वान उन्हें राष्ट्रीय कवि का स्थान तक देते हैं।

कालिदास के बारे में कथाओं और किम्वादंतियों से ये पता चलता है की वह शक्लो-सूरत से सुंदर थे और विक्रमादित्य के दरबार के नवरत्नों में एक थे। कहा जाता है कि प्रारंभिक जीवन में कालिदास अनपढ़ और मूर्ख थे।

कालिदास और विद्योत्तमा

उनकी शादी विद्योत्तमा नाम की राजकुमारी से हुई। ऐसा कहा जाता है कि विद्योत्तमा ने प्रतिज्ञा की थी कि जो कोई उसे शास्त्रार्थ में हरा देगा, वह उसी के साथ शादी करेगी। जब विद्योत्तमा ने शास्त्रार्थ में सभी विद्वानों को हरा दिया तो अपमान से दुखी कुछ विद्वानों ने कालिदास से उसका शास्त्रार्थ कराया।



विद्योत्तमा मौन शब्दावली में गूढ़ प्रश्न पूछती थी, जिसे कालिदास अपनी बुद्धि से मौन संकेतों से ही जवाब दे देते थे। विद्योत्तमा को लगता था कि वो गूढ़ प्रश्न का गूढ़ जवाब दे रहे हैं। उदाहरण के लिए विद्योत्तमा ने प्रश्न के रूप में खुला हाथ दिखाया तो कालिदास को लगा कि यह थप्पड़ मारने की धमकी दे रही है। उसके जवाब में उसने घूंसा दिखाया तो विद्योत्तमा को लगा कि वह कह रहा है कि पाँचों इन्द्रियाँ भले ही अलग हों, सभी एक मन के द्वारा संचालित हैं।

कालिदास का विवाह

कालिदास और विद्योत्तमा का विवाह हो गया तब विद्योत्तमा को सच्चाई का पता चला कि वे अनपढ़ हैं। उसने कालिदास को धिक्कारा और यह कह कर घर से निकाल दिया कि सच्चे पंडित बने बिना घर वापिस नहीं आना।

⇒पढ़िए- भारत की पौराणिक संस्कृति | भारतीय संस्कृति की पहचान

( अस्ति कश्चित वागर्थीयम् नामसेडॉ कृष्ण कुमार ने १९८४ में एक नाटक लिखा, यह “नाटक कालिदास के विवाह” की लोकप्रिय कथा पर आधारित है। इस कथा के अनुसार, कालिदास पेड़ की उसी टहनी को काट रहे होते हैं, जिस पर वे बैठे थे। विद्योत्तम से अपमानित दो विद्वानों ने उसकी शादी इसी कालिदास के करा दी। जब उसे ठगे जाने का अहसास होता है, तो वो कालिदास को ठुकरा देती है। साथ ही, विद्योत्तमा ने ये भी कहा कि अगर वे विद्या और प्रसिद्धि अर्जित कर लौटते हैं तो वह उन्हें स्वीकार कर लेगी। जब वे विद्या और प्रसिद्धि अर्जित कर लौटे तो सही रास्ता दिखाने के लिए कालिदास ने उन्हें पत्नी न मानकर गुरू मान लिया।)

कालिदास ने सच्चे मन से काली देवी की आराधना की और उनके आशीर्वाद से वे ज्ञानी और धनवान बन गए। ज्ञान प्राप्ति के बाद जब वे घर लौटे तो उन्होंने दरवाजा खड़का कर कहा – कपाटम् उद्घाट्य सुन्दरी (दरवाजा खोलो, सुन्दरी)। विद्योत्तमा ने चकित होकर कहा — अस्ति कश्चिद् वाग्विशेषः (कोई विद्वान लगता है)।

उन्होंने विद्योत्तमा को अपना पथप्रदर्शक गुरू माना और उसके इस वाक्य को उन्होंने अपने काव्यों में जगह दी। और अपने जीवन काल के दौरान कई अद्भुत रचनाएँ दीं। कहते हैं कि कालिदासजी की श्रीलंका में हत्या कर दी गई थी लेकिन विद्वान इसे भी कपोल-कल्पित मानते हैं।

क्लिक करें और पढ़ें भारतीय संस्कृति से जुड़ी कुछ और रोचक जानकारियां

इस तरह उनके जीवन से हमें बहुत सी शिक्षाएँ मिलती हैं। अगर कोई आपकी कमियां बताता है तो उसे हमें सकारत्मक तौर पर लेना चाहिए। जब हम कोई कार्य करने की सोचते हैं तो हमें अपने पथ से भटकना नहीं चाहिए। जीवन में अगर कभी अंधकार आये तो घबराना नहीं चाहिए।

मित्रों आपको Kalidas Ki Kahani से क्या शिक्षा मिली कमेंट बॉक्स में अपने विचार लिखना ना भूलें। हमें आपकी प्रतिक्रियाओं का इंतजार रहेगा।

धन्यवाद।

26 Comments

  1. Avatar सुभाष मैदा
  2. Avatar Bhushan
    • Sandeep Kumar Singh Sandeep Kumar Singh
  3. Avatar वफ़ा फ़राज़
  4. Avatar Makkhan lal verma@
  5. Avatar बृजेश जायसवाल
    • Sandeep Kumar Singh Sandeep Kumar Singh
  6. Avatar Rajan chauhan
  7. Avatar Rahul choudhary
  8. Avatar Krishna gopal Ray
  9. Avatar Gaurishankar Singh
    • Sandeep Kumar Singh Sandeep Kumar Singh
  10. Avatar दीपक कुमार
    • Sandeep Kumar Singh Sandeep Kumar Singh
  11. Avatar Krishna pal
  12. Avatar Ajay pandey
  13. Avatar Nandita thakur
  14. Avatar Vijay ahirwar
  15. Avatar Swadesh
  16. Avatar akash singh
  17. Avatar अरविंदजी ठाकोर

Add Comment

आधुनिक महापुरुषों के गुरु कौन थे?